Now Reading
हाईकोर्ट में 9 प्रतिशत से कम महिला जज

हाईकोर्ट में 9 प्रतिशत से कम महिला जज

छाया: न्यूज ऑन एयर डॉट कॉम

न्यूज़ एंड व्यूज़
न्यूज़

हाईकोर्ट में 9 प्रतिशत से कम महिला जज

1 हजार जजों के मुकाबले 100 महिला जज भी नहीं

चिंता: देशभर के 25 हाईकोर्ट में से 5 में एक भी महिला जज नहीं

नई दिल्ली। संसद से लेकर पंचायत तक महिलाओं को पुरुषों के बराबर लाने की बात होती है, लेकिन न्यायपालिका के चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। सुप्रीम कोर्ट से लेकर सभी हाईकोर्ट में महिला जजों के मामले में आधी आबादी का प्रतिनिधित्व 10 प्रतिशत भी नहीं है। संसद को दी गई जानकारी के अनुसार सुप्रीम कोर्ट व 25 उच्च न्यायालयों में महिला जजों का प्रतिनिधित्व 8.9 प्रतिशत है। सुप्रीम कोर्ट में जजों की स्वीकृति संख्या में 11.7 प्रतिशत ही महिलाएं हैं।

हाईकोर्ट में स्थिति और भी खराब है। कानून मंत्रालय के अनुसार 25 हाई कोर्ट में 1098 जजों की कुल संख्या में 83 महिला जज हैं, जो महज 7.5 प्रतिशत  है। हालात यह है कि 4 हाई कोर्ट में एक भी महिला जज नहीं है, जबकि 6 हाई कोर्ट ऐसे हैं जिनमें सिर्फ एक-एक महिला जज हैं। सबसे अधिक मद्रास उच्च न्यायालय में 75 में से 13 महिला जज हैं। दूसरी ओर इलाहाबाद हाई कोर्ट में 160 की स्वीकृति संख्या में कुल जमा 5 महिलाएं हैं। यह करीब 3.5 प्रतिशत है। दिल्ली उच्च न्यायालय में 60 में से 6, यानी 10 प्रतिशत महिलाएँ हैं। मणिपुर मेघालय, पटना, त्रिपुरा और उत्तराखंड में जजों की संख्या 78 हैं पर एक भी महिला नहीं। छत्तीसगढ़, जम्मू-कश्मीर, झारखंड, ओडिशा, राजस्थान और सिक्किम में 144 जज हैं लेकिन इन हाईकोर्ट में सिर्फ एक-एक महिला जज हैं।

सन्दर्भ स्रोत- दैनिक भास्कर

और पढ़ें

न्यूज़ एंड व्यूज़

View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Website Designed by Vision Information Technology M-989353242

Scroll To Top