Now Reading
हमने ठीक से बूढ़ा होना नहीं सीखा

हमने ठीक से बूढ़ा होना नहीं सीखा

रस गागरी
साहित्य वीथिका
कविता

हमने ठीक से बूढ़ा होना नहीं सीखा

श्रुति कुशवाहा

जवानी के ब्याह को प्रेम समझा

उम्रदराज़ प्रेम को गुनाह
जबकि ब्याह और प्रेम को
ठीक ठीक साधना
इसी उम्र में संभव था
जमा करना था बैंक और घर में
जितनी एफडी उतना समय
किसी की बीस साला शिकायतें दूर करनी थी
किसी की हालिया तल्ख़ी
बच्चों को बताना था
माता-पिता भी उतने ही इंसान होते हैं
गलतियां उनसे भी हो जाया करती है
यही खेलने खाने की असल उम्र है
लेकिन कुछ परहेज़ के साथ
ये उम्र दिलों से खेलने की नहीं
ज़्यादातर दिल कमज़ोर हो चुके होते हैं
ये आँखें फेरने की नहीं
आँखें मिलाने की उम्र है
जो करना है अब करना है
इस उम्र में कल नहीं आता
इस उम्र का कल आशंकाओं से घिरा है
इस उम्र तक समझ जाना चाहिये
बहुत शुचितावादी नहीं होता जीवन
कुछ गोपन इच्छाएं होती हैं
कुछ ज़ाहिर चूक
इस उम्र तक आते आते
मैल छंट जाना चाहिये
अविश्वास छूट जाना चाहिये
अपराधबोध धुल जाने चाहिये
ग्लानि घुल जानी चाहिये
बहुत से बंधनों के बीच
खुद को मुक्त करते रहना ज़रूरी
बहुत ज़रूरी है प्रेम को
प्रेम से स्वीकारना
स्वीकार सबसे बड़ा मोक्ष है
बुढ़ापे का पहाड़ा शुरू करते ही
बाकी उलझा गणित भूल जाना चाहिये
हम जो न जी पाए ढंग का बचपन
कायदे की जवानी
कम से कम बुढ़ापे तक तो तरतीब से पहुँचे
सीखने को अब भी क्या देर हुई है

आइये, एक खुशहाल बुढ़ापा जीना सीखते हैं

 
  
 
View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Website Designed by Vision Information Technology M-989353242

Scroll To Top