Now Reading
लीना यादव

लीना यादव

छाया : द स्टेट्समैन

सृजन क्षेत्र
टेलीविजन, सिनेमा और रंगमंच
प्रमुख प्रतिभाएँ

लीना यादव

समकालीन सिने जगत में सार्थक फिल्मों के लिए चर्चित लीना यादव का जन्म 6 जनवरी 1971 को हुआ था। उनके पिता फ़ौज में अधिकारी थे और उनके जन्म के समय मध्यप्रदेश में ही पदस्थ थे। उनकी शुरूआती पढ़ाई-लिखाई मध्यप्रदेश में ही हुई। बारहवीं के बाद लीना ने इंजीनियरिंग की परीक्षा दी। उन्होंने फ़िज़िक्स और मैथ्स के पर्चे तो बहुत अच्छे से किए। लेकिन तभी उन्हें लगा कि वे इंजीनियर नहीं बनना चाहती हैं तो उन्होंने जानबूझ कर केमिस्ट्री का पर्चा बिगाड़ दिया। वे दरअसल वास्तुविद बनना चाहती थीं जिसके लिए वे अहमदाबाद चली गईं,लेकिन वास्तुशिल्प की उनकी पढ़ाई किसी वजह से पूरी नहीं हो सकी। माता-पिता की सलाह पर उन्होंने लेडी श्रीराम कॉलेज,दिल्ली से अर्थशास्त्र में बी.ए.ऑनर्स किया। इसके साथ ही उन्होंने एम बी ए की तैयारी भी शुरू कर दी ,लेकिन एक बार फिर उनका विचार बदला। उन्हें लगा कि मीडिया का क्षेत्र ही उनके लिए उपयुक्त होगा,सो उन्होंने मुंबई के सोफिया कॉलेज में मास कम्युनिकेशन में दाख़िला ले लिया।

इसी दौरान लीना का रुझान फिल्म निर्माण की ओर हुआ। उन्होंने राजू हिरानी -जो उस समय फिल्म एडिटर थे,के सहायक के तौर पर अपना करियर शुरू किया और फिर कुछ विज्ञापन फिल्में बनाईं। कुछ टी वी धारावाहिकों का भी संपादन लीना ने किया। अपनी अधिकाँश फिल्मों की लेखक,निदेशक और संपादक लीना खुद होती हैं। कई फिल्मों की निर्माता भी वे स्वयं ही हैं। वर्ष 2000 में आई लीना की पहली फिल्म ‘डेड एंड’ एक टेलीफिल्म थी। इसकी निर्माता, निर्देशक, लेखिका और एडिटर स्वयं लीना ही थीं। डेड एंड को पर्याप्त सराहना मिली। इसके बाद लीना ने पीछे मुड़कर नहीं देखा। 2015 में उनके द्वारा फिल्म ‘पार्च्ड’ को अजय देवगन ने प्रोड्यूस किया था। आमदनी के लिहाज से तो यह फिल्म ज्यादा सफल नहीं रही, लेकिन समीक्षकों से इसने काफ़ी तारीफ़ें बटोरीं। इस फिल्म में महिलाओं के चित्रण को लेकर उन्हें  जान से मारने की धमकियां भी मिलीं। दरअसल यह एक बोल्ड फिल्म है जो ग्रामीण औरतों के साथ होने वाले हर तरह के अमानवीय व्यवहार का कच्चा चिट्ठा खोल कर रख देती है। ‘पार्च्ड’ 2010 में एशिया पैसेफिक स्क्रीन अवॉर्ड में बेस्ट स्क्रीन प्ले के लिए नामित हुई थी। ‘पार्च्ड’ की पटकथा को ऑस्कर लाइब्रेरी में संग्रहित किया गया है।”

फिल्म एडिटर से फिल्म निर्माता बनने का लीना का सफर बहुत आसान नहीं रहा। महिला होने के नाते उन्हें भेदभाव का सामना भी करना पड़ा। निर्माता-निदेशक उनकी क्षमताओं पर भरोसा नहीं करते थे और हर बार उन्हें खुद को साबित करने को कहा जाता था। एक बार लीना को फ्रीलांस एडिटर के तौर पर काम देने वाले एक निर्माता ने पूछा कि तुम एडिटर हो ? उन्होंने हां में जवाब दिया। निर्माता ने उस जगह की सारी वायरिंग निकाल ली और लीना से कहा कि तुम्हें तो सब कुछ पता होगा, इस जगह की सारी वायरिंग भी? लीना को सचमुच सारी वायरिंग के बारे में जानकारी थी तो उन्होंने सारी वायरिंग जस की तस कर दी । फिर निर्माता से कहा कि मैं तुम्हारे साथ काम करना नहीं चाहती और बाहर चली आईं। ‘शब्द’ और ‘तीन पत्ती’ को अपेक्षित सफलता न मिल पाने से दुखी लीना ने आगे फिल्में न बनाने का निश्चय कर लिया था, लेकिन उनके पति असीम बजाज ने उनका हौसला काम नहीं होने दिया।

दूसरी तरफ बेन किंग्स्ले जैसे विश्वविख्यात निदेशक ने तीन पत्ती फिल्म के संदर्भ में लीना के बारे में कहा कि वह किरदार के बारे में इतना ज्यादा जानती है, जितना कि हम फिल्म पूरी करने के बाद भी शायद ही जान पाएं। इसलिए मुझे लगता है कि हमें केवल चुपचाप उसे (लीना को) सुनना चाहिए। लीना के लिए इससे बड़ी शाबाशी कोई और नहीं हो सकती थी। लीना यादव को अब ईरान के दो किशोरों की सच्ची और त्रासदीपूर्ण समलैंगिक प्रेम कहानी पर आधारित फिल्म सीक्रेट स्काई को निर्देशित करने का मौका मिला है। ईरान में समलैंगिकता गैर कानूनी है और इसके लिए मौत की सजा का प्रावधान है। हॉलीवुड रिपोर्टर की वेबसाइट के मुताबिक, निर्माता कैरोल पोलाकॉफ की व्यूफाइंडर पिक्चर्स और डेनियल ड्रेइफस की एनिमा पिक्चर्स मानव अधिकार से जुड़ी सच्ची कहानी पर आधारित इस फिल्म का निर्माण कर रहे हैं।

लीना की प्रमुख फ़िल्में हैं –

  1. डेड एंड (वर्ष 2000): निर्माता, लेखक,निदेशक और संपादक
  2. शब्द (वर्ष 2005): लेखक,निदेशक और संपादक
  3. थैंक यू फॉर नाउ (लघु फिल्म,वर्ष 2009): संपादक
  4. तीन पत्ती (वर्ष 2010):  निदेशक और संपादक
  5. पार्च्ड (वर्ष 2015): निर्माता, लेखक,निदेशक

टीवी शो

  1. दिस वीक दैट ईयर: स्टार मूवी के लिए
  2. से ना समथिंग तो अनुपम अंकल
  3. संजीवनी
  4. गूँज : सोनी टीवी के लिए
  5. कहीं न कहीं कोई है : माधुरी दीक्षित के साथ मैच मेकिंग शो
  6. टेम्पटेशन आईलैंड
  7. खौफ

संदर्भ स्रोत – स्रोत : कुकू एफ़ एम, बॉलीवुड डायरेक्ट, न्यूज़ नेशन, पत्रिका और दैनिक भास्कर 

 

 

सृजन क्षेत्र

      

 

View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Website Designed by Vision Information Technology M-989353242

Scroll To Top