रख़शां ज़ाहिद

जन्म: 23 जुलाई, स्थान: औरंगाबाद (महा.). माता: श्रीमती नाज़नीन शमीम, पिता: श्री शमीम अहमद. जीवन साथी: श्री ज़ाहिद अनवर. संतान: पुत्री -03. शिक्षा: बी.ए.,  एम.ए. (इंग्लिश लिटरेचर), एमबीए (एच आर, इंटरनेशनल बिज़नेस). व्यवसाय: फैशन डिज़ाइनर/सोशल एंटरप्रेन्योर. करियर यात्रा: पत्रकार के रूप में करियर की शुरुआत. वर्ष 1993 से वर्ष 1997 तक एमपी क्रॉनिकल में उप संपादक के रूप में कार्य किया. वर्ष 2005 में स्वयं के फैशन ब्रांड ‘तराश’ की स्थापना की. वर्ष 2017 में WEES ( वुमन एजुकेशन एंपावरमेंट सोसायटी- एक गैर सरकारी संगठन) की स्थापना. उपलब्धियां/पुरस्कार: ब्रांड एंबेसडर-‘राग भोपाली’ (ग्रामीण स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं द्वारा बनाए गए स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए जिला प्रशासन की एक पहल). सम्मान- क्षितिज फाउंडेशन द्वारा सम्मान-नई दिल्ली (2018), पूनम संत महिला एवं विकास समिति-इलाहाबाद द्वारा गांधी भवन, भोपाल में स्टेट वुमन अचीवर्स अवार्ड (2019),  हेल्पिंग हैंड फाउंडेशन द्वारा सम्मानित (2020), वुमन एक्सीलेंस अचीवमेंट अवार्ड (2020, इंडिया अवार्ड्स सीजन 5), जनपरिषद 2021 द्वारा 2 सौ टाइटैनिक भारतीय सुंदरियों में शामिल, राइजिंग बियॉन्ड द सीलिंग द्वारा सौ भारतीय मुस्लिम प्रेरक महिलाओं में नामांकित, अखिल भारतीय महिला सम्मेलन (AIWC 2022), नारी शक्ति सम्मान (2022), उत्कर्षिनी पुरस्कार (2022),  राष्ट्रीय नारी सशक्तिकरण संघ द्वारा मध्य प्रदेश गौरव रत्न पुरस्कार (2022), टाइम्स ऑफ इंडिया ग्रुप, एचडीएफसी बैंक इंदौर बिजनेस कन्वेंशन सेंटर-इंदौर सहित अनेक संस्थाओं द्वारा अनेक सम्मान तथा पुरस्कार प्राप्त.  विदेश यात्रा: यूरोप, सिंगापुर, सऊदी अरब, दुबई, मलेशिया. रुचियां: संगीत, कुकिंग ट्रैवलिंग. अन्य जानकारी: संस्थापक अध्यक्ष-  वुमन एजुकेशन एंपावरमेंट सोसायटी. संस्था के माध्यम से पिछड़े क्षेत्रों की वंचित महिलाओं के उत्थान और उन्हें मुख्यधारा में शामिल होने में मदद. अध्यक्ष-लेडीज क्लब, बेगम्स ऑफ़ भोपाल (क्लब का मुख्य उद्देश्य शहर की समृद्ध विरासत और संस्कृति को बढ़ावा देना और संरक्षित करना है). महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने की दिशा में स्थानीय कारीगरों को मंच प्रदान करने और शहर के पारंपरिक कला को बढ़ावा देने के लिए भोपाल की बेगमों द्वारा 150 साल पुरानी परंपरा ‘परी बाजार’ (भारत का पहला महिला बाजार) को पुनर्जीवित किया गया. क्यारी प्लांटेशन एंड डेवलपमेंट के तहत ‘स्वस्थ और स्वच्छ पर्यावरण’ के लिए कार्य. वंचित महिलाओं को आवश्यक कौशल विकास प्रशिक्षण प्रदान करने और उन्हें आत्मनिर्भर बनने में मदद करने के लिए बरखेड़ी मलिन बस्ती क्षेत्र में एक प्रशिक्षण केंद्र ‘अनवा’ शुरू किया, जहां महिलाओं द्वारा अपशिष्ट पदार्थों से टिकाऊ और पर्यावरण के अनुकूल उत्पाद बनाए जाते हैं. पता: 3/1, कोहेफ़िज़ा, सैफिया कॉलेज गेट नं 1 के पास, भोपाल- 01. ई-मेल: rakhzzz@gmail.com वेब: https://www.weesonline.org

Facebook

Twitter

Instagram

Whatsapp