मीरा जैन

जन्म: 11 मई, स्थान: जगदलपुर (छग). माता: श्रीमती केसर देवी, पिता: श्री विनय चंद मोदी. जीवन साथी: इंजी. वीरचंद जैन. संतान: पुत्र -01, पुत्री -01. शिक्षा: बी.ए. करियर यात्रा: पिछले 27 वर्षों से निरंतर लेखन कार्य में संलग्न. देश के प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं (कादंबिनी, अहा जिंदगी, वागर्थ, नवनीत, जागरण सखी, वीणा, सरस सलिल, कथादेश, साहित्य अमृत, साक्षात्कार, अक्षरा, द्वीप लहरी, देवपुत्र बालहंस, बाल किलकारी, नई दुनिया, लोकमत, अमर उजाला, नवभारत टाइम्स, ई-कल्पना कनाडा, सेतु यूएसए, भारत दर्शन न्यूजीलैण्ड, समापवर्तन, हिंदी चेतना कनाडा, साहित्य समीर, अक्षर विश्व, अमर उजाला, दैनिक भास्कर, राजस्थान पत्रिका, प्रभात खबर, पंजाब केसरी, जनवाणी, हरिभूमि आदि) में 1000 से ज्यादा रचनाएं प्रकाशित. आकाशवाणी जगदलपुर, आकाशवाणी इंदौर एवं मध्य प्रदेश दूरदर्शन से रचनाओं का प्रसारण. उपलब्धियां/पुरस्कार: प्रकाशन- अब तक 9 विधाओं का प्रकाशन हो चुका है (4 लघु कथाएं, 3 लेख, 1 व्यंग्य तथा 1 कविता क्रमशः सौ लघुकथाएं, सम्यक लघुकथाएं, 101 लघुकथाएं, मानव मीत लघु कथाएं, दिन बनाता है दिखावा, श्रेष्ठ जीवन के संजीवनी, जीवन बन जाए आनंद का पर्याय, कविताएं मीरा जैन की एवं हेल्थ हादसा) इनमें से कुछ किताबों के 4-3 तथा 2-2 संस्करण प्रकाशित हो चुके हैं. सम्मान-गृह मंत्रालय भारत सरकार द्वारा विद्वानों की सूची में नाम शामिल, 2007-08 में निर्धन वर्ग आयोग म.प्र. शासन द्वारा राज्य स्तर पर इनके द्वारा भेजे सुझाव चयनित. केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय तथा छत्तीसगढ़ शासन द्वारा किताबों का क्रय, चेयरपर्सन- गर्ल सेव चाइल्ड कमेटी (2016-18), सदस्य- उज्जैन बाल कल्याण समिति, पद- प्रथम श्रेणी न्यायिक मजिस्ट्रेट (2013-18), साहित्य व समाज सेवा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने के लिए जैन सोशल ग्रुप इंटर नेशनल फेडरेशन  द्वारा सम्मान (2016-17), अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (2016-17) पर महिला बाल विकास उज्जैन द्वारा सम्मान, दैनिक अग्निपथ तथा शब्द प्रभाव द्वारा साहित्य सम्मान” (2013), राष्ट्रीय संगठन सखी संगिनी द्वारा नारी सेवा सम्मान (2018), शिक्षा मंत्री द्वारा राष्ट्रीय प्रतिभा सम्मान (2017-18), नई दुनिया तथा टाटा शक्ति द्वारा प्राइवेट स्टोरी अवार्ड, पुस्तक 101 लघु कथाओं को राष्ट्रीय स्तर पर प्रथम पुरस्कार, लघु कथा के लिए हस्ताक्षर संस्था द्वारा राज्य स्तर पर विशिष्ट पुरस्कार, कथादेश द्वारा 2016 में लघु कथा पुरस्कृत, अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर लेख को प्रथम पुरस्कार, अभिव्यक्ति मंच द्वारा कविता को राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कार, सम्यक लघुकथाएं को राष्ट्रीय स्तर पर प्रथम पुरस्कार, लघु कथाएं एवं लेख को विभिन्न संस्थाओं द्वारा 2018 में पुरस्कृत किया गया. विदेश यात्रा: अमेरिका (कैलिफोर्निया). रुचियां: लेखन कार्य, समाजसेवा विशेष रूप से शोषित पीड़ितों एवं जरूरतमंद बालक-बालिकाओं एवं नारियों की सेवा करना, सहायता करना. अन्य जानकारी: इनकी रचनाएं पंजाबी, उड़िया, मराठी, अंग्रेजी सिंधी आदि भाषाओं में अनुदित तथा इन्हीं भाषाओं की पत्र-पत्रिकाओं में अनेक रचनाएं प्रकाशित हुई हैं और निरंतर हो रही हैं. पहली किताब मीरा जैन की 100 लघु कथाएंपर विक्रम यूनिवर्सिटी उज्जैन द्वारा 2011 में शोध कार्य करवाया जा चुका है. पता: 516, सेठी नगर, टैम्पो स्टैण्ड के पास, साईंनाथ कालोनी, सेठी नगर उज्जैन- 10. फोन: 0734-2511816. ई-मेल: jainmeera02@gmail.com

Facebook

Twitter

Instagram

Whatsapp