Now Reading
प्रदेश की 2 आशा कार्यकर्ताओं को डब्ल्यूएचओ करेगा सम्मानित

प्रदेश की 2 आशा कार्यकर्ताओं को डब्ल्यूएचओ करेगा सम्मानित

छाया: पत्रिका  

न्यूज़ एंड व्यूज़ 

न्यूज़

प्रदेश की 2 आशा कार्यकर्ताओं को डब्ल्यूएचओ करेगा सम्मानित

•  वैक्सीनेशन बढ़ाने दीवारों पर लिखे  नारों को दुनिया ने सराहा

भोपाल। सरकारी व्यवस्था में आकर जहां व्यक्ति काम को टालने की कोशिश करता रहता है, लेकिन उसी व्यवस्था में कोई कर्मचारी दूसरों की सेहत के लिए फिक्रमंद हो और दिन रात उसके लिए काम करे तो उसके जज्बे को सलाम किया जाना चाहिए। ऐसे ही जब्बे को सलाम किया है विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने। दरअसल डब्ल्यूएचओ ने राजधानी भोपाल सहित प्रदेश की दो आशा कार्यकर्ताओं को कोरोना काल में वैक्सीनेशन कार्यक्रम को बढ़ाने के लिए किए उनके प्रयासों को सम्मानित करने का फैसला किया है।

बड़वानी की भगवती एक हाथ नहीं, पति ने भी छोड़ा, बनाए रखा हौसला

बड़वानी की भगवति यादव बचपन से ही दिव्यांग हैं, इसके चलते पति ने उन्हे छोड़ दिया। तमाम मुश्किलों के बावजूद उन्होंने हौसला नहीं छोड़ा छह साल के बेटे के साथ मायके आकर रहने लगी। 2006 में गांव में आशा बन गई। पहले सिर्फ टीकाकरण कराने जाती थी, बाद में डिलीवरी से लेकर तमाम कामों की जिम्मेदारी भी मिल गई। कोरोना काल में भी लगातार लोगों से संपर्क किया और टीके के लिए प्रोत्साहित किया।

नलखेड़ा गांव की अर्चना ने घर-घर जाकर दिए पीले चावल, लिखे निमंत्रण

बैरसिया विकास खंड के नलखेड़ा गांव की आशा कार्यकर्ता अर्चना कुशवाहा ने वैक्सीन के लिए खास तरीके से लोगों को प्रोत्साहित किया। गांवों में जब लोग टीके लगवाने से कतरा रहे थे, तब उन्होंने सेहत से जुड़े नारे तैयार किए और गांवों की दीवारों पर लिखना शुरू किए। घर-घर जाकर पीले चावल दिए, हाथ से लिखे निमंत्रण पत्र बनाए और लोगों को बांटे। उन्होंने बताया कि शुरुआत में जब बुजुर्ग टीका लगवाने को तैयार नहीं हो रहे थे, मैंने दिवाली के पहले गांव में 60 साल से अधिक उम्र की बुजुर्ग महिलाओं को एक-एक साड़ी और 10-10 दीपक उपहार में दिए। वैक्सीनेशन लगवाने की अपील की। लोगों को दूसरे लोगों को जोडऩे को कहा, इसका असर यह हुआ कि पूरे ब्लॉक में टीकारकरण हो गया।

प्रधानमंत्री करेंगे बात

डब्ल्यूएचओ का ग्लोबल हेल्थ लीडरशिप अवार्ड हर प्रदेश से दो आशा कार्यकर्ताओं को दिया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कुछ आशा कार्यकर्ताओं से बात करेंगे।

संदर्भ स्रोत –पत्रिका  

और पढ़ें

न्यूज़ एंड व्यूज़

View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Website Designed by Vision Information Technology M-989353242

Scroll To Top