प्रज्ञा दुराफे

जन्म: 7 जुलाई, स्थान: इंदौर. माता: श्रीमती वासंती आगाशे, पिता: श्री वसंत आगाशे. जीवन साथी: श्री हितेन्द्र दुराफे. संतान: पुत्र -02. शिक्षा: बी.एफ.ए. विशेषज्ञता- भारतीय पारंपरिक चित्रकला (गवर्नमेंट फाइन आर्ट कॉलेज, इंदौर). व्यवसाय: कला शिक्षिका (शिशुकुंज इंटरनेशनल स्कूल)/ प्रिंटिंग व्यवसाय/ सह संस्थापक – ‘आर्टमेट’. करियर यात्रा: कॉलेज में पढ़ाई के दौरान कला कर्म शुरू किया तथा चित्रकला शिविरों व प्रदर्शनियों में शिरकत करना शुरू किया. बाद में कुछ मित्रों के साथ मिलकर ‘आर्टमेट’ नामक ग्रुप की स्थापना की जिसमें कई महिला कलाकारों को आगे बढ़ने का अवसर प्रदान तथा उनकी कला को प्रदर्शनियों के माध्यम से  मंच प्रदान किया. वर्तमान में स्वतंत्र कलाकार के रूप में कार्य जारी. उपलब्धियां/पुरस्कार: एक्सीलेंट अवार्ड-पानीपत, एक्सीलेंट टीचर अवार्ड (एम.ए.ए.सी. इंदौर), उत्कृष्ट चित्रकार अवार्ड (कर्नाटक ललित कला अकादमी), वाकणकर कला स्मृति पुरस्कार-उज्जैन,  कई नेशनल प्रदर्शनियों कलाकृतियाँ चयनित, पत्रिका समूह द्वारा अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर सम्मान. अनेक वरिष्ठ कलाकारों के कार्य की ऑनलाइन एवं ऑफलाइन प्रदर्शनियां आयोजित. संपूर्ण भारत के कई शहरों में करीब 80 से अधिक प्रदर्शनियों में शिरकत तथा करीबन 20 आर्टिस्ट शिविरों में सहभागिता. रुचियां:  बागवानी, लेखन- पठन कार्य, साइकलिंग, तैराकी तथा कुकिंग. अन्य जानकारी: गोंड, वारली, मधुबनी,  कलमकारी आदि कला में पारंगत तथा इन्हीं कलाओं की बारीकियों को शिविरों द्वारा जन-जन तक पहुंचाने के कार्य में संलग्न. पता: 51, लोकमान्य नगर, आरटीओ रोड, इंदौर -01.  ई-मेल: navalparag01@gmail.com

Facebook

Twitter

Instagram

Whatsapp