पुष्पा तिवारी

जन्म: 2 मार्च, स्थान: कानपुर. माता: श्रीमती धनवती शुक्ला, पिता: राधेश्याम शुक्ला. जीवन साथी: श्री कनक तिवारी. संतान: पुत्र -01, पुत्री -01. शिक्षा: गृह विज्ञान में स्नातकोत्तर उपाधि. व्यवसाय: स्वतंत्र लेखन, (गृहणी). जीवन यात्रा: एम.एच. कॉलेज ऑफ होम साइंस जबलपुर (म.प्र.) से एमएचएससी (होम मैनेजमेंट) करने के बाद उसी कालेज में अध्यापन कार्य (66-69) किया. नौकरी छोड़ने के बाद स्वतंत्र लेखन. उपलब्धियां/पुरस्कार: कोषाध्यक्ष-संस्कार (संस्कृति-साहित्य-कला की रचनाधर्मिता की संस्था, दुर्ग).  “कहत कबीर” (कबीर) पर वैचारिक ग्रन्थ का संपादन, देश की विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं (पहल, समकालीन भारतीय साहित्य, वागर्थ, साक्षात्कार, अक्षरपर्व, लोकमत, भास्कर, नवभारत, देशबन्धु, वसुधा, कथादेश आदि) में समय-समय पर रचनाएं प्रकाशित. प्रकाशन- उपन्यास:  ‘जानो तो गाथा है‘, “राधेबाबू आने वाले हैं”, कथा-उपन्यास- “नरसू की टुकुन”, कविता संग्रह- “कल मेरा दरवाजा खटखटाएगा”, “दादिंग”, ‘‘ बिन आहट’’, व्यंग्य विधा में भी लेखन, दुर्ग-भिलाई की बीस कवयित्रियों के काव्य संग्रह “ हम बीस सदी के” का सम्पादन, लेखक – फेसबुक सीरीज “हम सैण्डविच पीढ़ी के लोग हैं”, दूरदर्शन एवं आकाशवाणी पर वार्ताएं प्रसारित, वानिकी विशेषकर बोनसाइ कला में भारत-जापान एसोसिएशन द्वारा प्रशस्ति. विदेश यात्रा: सिंगापुर, मॉरीशस, मलेशिया, जापान, थाईलैंड, बैंकाक, हांगकांग, श्रीलंका, स्कॉटलैंड, इंग्लैंड, पेरिस, नीदरलैंड, जर्मनी, फ्रांस, बेल्जियम, दुबई, मस्कट, बहरीन. रुचियां: क्रिएटिव कार्य, बागवानी, गहने बनाना, पेंटिग, पढ़ना, घूमना. पता: एचआईजी- 155, पदमनाभपुर दुर्ग, छग- 01. ई-मेल: tejastiwari@gmail.com

Facebook

Twitter

Instagram

Whatsapp