नेहा नरूका

जन्म: 01 दिसम्बर, स्थान: उदोतगढ़ (भिंड). माता: श्रीमती शारदा, पिता: श्री नरेश सिंह. जीवन साथी: अशोक. संतान: पुत्री -01. शिक्षा: एम.ए. (हिंदी साहित्य-2010), यूजीसी नेट (2012), पीएचडी (हिंदी साहित्य), जीवाजी यूनिवर्सिटी, ग्वालियर (2016). व्यवसाय: असिस्टेंट प्रोफ़ेसर- गेस्ट फेकल्टी (हिंदी) शासकीय एस.एम.एस महाविद्यालय. करियर यात्रा: महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय वर्धा में वर्धा हिंदी शब्द कोश परियोजनाके अंतर्गत वर्ष 2012 से 2013 तक शोध सहायक के रूप में पदस्थ. इसके बाद हिंदी की महिला कथाकारों की आत्मकथाओं का अनुशीलनविषय पर शोध कार्य किया. वर्ष 2017 से शासकीय एस.एम.एस महाविद्यालय, कोलारस, शिवपुरी में अध्यापन कार्य. कक्षा बारहवीं से कवितायें लिखना प्रारम्भ किया. समसामयिक सृजन 2012 के युवा कविता विशेषांक में पहली कविता का प्रकाशन हुआ. इसके बाद निरंतर कवितायें लिखती रहीं, पार्वती योनि कविता के बाद युवा कवियित्री के रूप में इनकी पहचान बनी. अब तक सौ से अधिक कवितायें लिख चुकी हैं. हिंदी की प्रमुख पत्रिकाओं हंस, पब्लिक एंजेडा, समावर्तन, लहक, आखरमाटी आदि में कविताएं प्रकाशित.सातवां युवा द्वादश (चयन – निरंजन श्रोत्रिय, बोधि प्रकाशन) में कविताएं संग्रहीत और प्रकाशित. सोशल मीडिया (वेबपटल) पर सक्रीय भागीदारी, साहित्यिक एवं सामाजिक गतिविधियों में भागीदारी. उपलब्धियां/पुरस्कार: चर्चित युवा कवियित्री के रूप में स्थापित.’पार्वती योनि’ सबसे चर्चित कविता. रुचियां: लेखन, गायन, नृत्य, फि़ल्म, साहित्य इत्यादि. अन्य जानकारी: उनकी रचनाओं में मौजूद विद्रोह और कड़वाहट, स्त्री मुक्ति या स्त्री विमर्श को किसी नारे की तरह नहीं, बल्कि जीवन दृष्टि के रूप में सामने लाता है. पता: चंद्रभान चतुर्वेदी, जगतपुर वार्ड क्रमांक -1, सरकारी अस्पताल के पास, कोलारस, जि.-शिवपुरी- 473770. ई-मेल: nehadora72@gmail.com.

Facebook

Twitter

Instagram

Whatsapp