निर्मला हांडे

जन्म: 14 फरवरी, स्थान: हरदा. माता: श्रीमती कमला बाई म्हस्के,  पिता:  स्व. श्री के.एल. म्हस्के. जीवन साथी: स्व. श्री व्ही.ए. हांडे. संतान: पुत्र -01, पुत्री -01. शिक्षा: एम.ए. (समाज शास्त्र, राजनीति शास्त्र), हिन्दी विशारद, एस.टी.सी., व्यवसाय: अध्यापन. करियर यात्रा: शिक्षिका -माहेश्वरी कन्या शाला अमरावती, एडहॉक प्रोफेसर -शा. महाविद्यालय जगदलपुर, शिक्षिका- आदिम जाति कल्याण विभाग जगदलपुर, अम्बागढ़ चौकी, हॉस्टेल सुपरिंटेन्डेंट पो. मै. आदिवासी कन्या छात्रावास राजनांदगांव आदि जगह 32 वर्ष सेवाएं देने के पश्चात स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति. उपलब्धियां/पुरस्कार: स्थानीय स्तर पर अनेक संस्थाओं द्वारा पुरस्कार व सम्मान प्राप्त, नृत्यांजलि कथक केन्द्र की स्थापना, जगदलपुर से प्रकाशित प्रगतिशील पत्रिका ‘समीकरण’, समाचार पत्र ‘सबेरा संकेत’ सहित अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित आलेख व कहानियां प्रकाशित. आकाशवाणी जगदलपुर में सक्रिय भागीदारी, कहानियों, लेखों का नियमित प्रसारण. वर्तमान में “लघुकथा के परिंदे” के अंतर्गत लघुकथा का लेखन. विदेश यात्रा:  कुवैत, काठमांडू (नेपाल). रुचियां: वाचन, लेखन, सिलाई, बुनाई, कविता, लघु कथा लेखन, भाषण देना, अन्य जानकारी: 4 वर्ष तक प्रगतिशील लेखक संघ अम्बागढ़ चौकी की अध्यक्ष रहीं. जगदलपुर में नौकरी के दौरान आदिवासी छात्र-छात्राओं को लेखन हेतु सतत प्रोत्साहित किया. उनसे विषय विशेष पर लिखवाना, उन्हें मार्गदर्शन देना तथा आकाशवाणी में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करना. इन्होंने आकाशवाणी में साल भर चलने वाली श्रृंखला “हमारी संस्कृति हमारी धरोहर” तथा “हमारी समस्या हमारे निदान” के लिए छात्र-छात्राओं को तैयार किया था. समाजसेवा में प्रारम्भ से ही सक्रिय भागीदारी, पूर्व में निर्धन लड़कियों को सिलाई-कढ़ाई का निशुल्क प्रशिक्षण देती रही. पिछले कुछ वर्षों से निर्धन मेधावी छात्र-छात्राओं को वर्ष में एक बार सायकल का वितरण. पता: 3208, मुराब कालोनी, नर्मदा रोड, जबलपुर, म.प्र.

Facebook

Twitter

Instagram

Whatsapp