नम्रता सरन 'सोना'

जन्म: 25 मई, स्थान: इंदौर. माता: स्व. निर्मल निगम, पिता: स्व. श्री कृष्णनारायण निगम. जीवन साथी: श्री आनंद सरन श्रीवास्तव. संतान: पुत्र -01. शिक्षा: एम.कॉम., एम.फिल., पत्रकारिता डिप्लोमा. व्यवसाय: बुटीक, स्वतंत्र लेखन. करियर यात्रा: वर्ष 1985 में इंदौर के गुजराती समाज विद्यालय से हायर सेकेंडरी, 1988 में देवी अहिल्या विश्वविद्यालय से कॉमर्स स्नातक और 1990 में स्नातकोत्तर परीक्षा उत्तीर्ण की. 1991 में पत्रकारिता डिप्लोमा और 1992 में कराधान में एम.फिल. की उपाधि प्राप्त की. लेखन में रुझान माता के सानिध्य से प्राप्त हुआ. माता श्रीमती निर्मल निगम हिंदी साहित्य की महान ज्ञाता थीं और उन्हीं से लेखन विरासत के रूप में प्राप्त हुआ. कक्षा आठ में प्रथम रचना “सच्चाई का सूरज” का सृजन किया. सबसे मिली सराहना के बाद लेखन एक जुनून बन गया. काव्य संग्रह के रूप में प्रथम पुस्तक “बूढा बरगद” वर्ष 2002 में (पुस्तक का विमोचन सुधा मलैया जी के करकमलों द्वारा सम्पन्न हुआ) प्रकाशित हुई और इसके बाद अन्य पुस्तकें प्रकाशित होती रहीं. वर्ष 2006 में विवाह के बाद लगभग दस वर्षों तक लेखन का कार्य बिल्कुल थम गया. वर्ष 2017 से पुनः कलम पकड़ी और तब से लेखन का सिलसिला सतत जारी है. उपलब्धियां/पुरस्कार: प्रकाशन-  काव्य संग्रह- 1. बूढ़ा बरगद, 2. स्वयंसिद्धा. बाल काव्य- स्पंदन-बाल. लघुकथा संग्रह- श्यामली. उपन्यास- 1. स्वतंत्र, 2. अरुंधति. साझा काव्य संकलन- वर्तमान काव्य अंकुर, साझा संकलन- 1. बाल पल्लव, 2. सरस काव्य धारा, 3. कोरोना और साहित्य. अन्य- लगभग दस साझा काव्य एवं लघुकथा साझा संकलन. सम्मान- विश्व हिंदी रचनाकार मंच द्वारा “अटल साहित्य गौरव सम्मान”, सरन सोसायटी द्वारा “स्टार पोएट ऑफ द ईयर सम्मान”, “लक्ष्मीबाई मेमोरियल अवॉर्ड”, “महादेवी वर्मा अवॉर्ड”, “शुभ संकल्प समूह इंदौर द्वारा “बेस्ट एक्टिविटी सम्मान”, हिंदी लेखिका संघ द्वारा सम्मान, विश्व हिंदी संगठन भोपाल द्वारा सम्मान, कायस्थ समाज द्वारा “उत्कृष्ट कवियत्री सम्मान”, लायंस सेंचुरी क्लब द्वारा “अनुपम कवियत्री सम्मान”, “विमेन एम्पॉवरमेंट अवॉर्ड”, प्रेमाभिव्यक्ति पत्र लेखन सम्मान- प्रथम पुरस्कार विजेता. आकाशवाणी भोपाल में काव्य पाठ, हिंदी लेखिका संघ मध्यप्रदेश के मंच पर काव्य पाठ, विश्व हिंदी संगठन की मध्यप्रदेश शाखा के मंच पर काव्य पाठ, लायंस सेंचुरी क्लब भोपाल के मंच से काव्य पाठ, कायस्थ समाज इंदौर के मंच से काव्य पाठ एवं प्रथम पुरस्कार विजेता, एन.आई.टी.टी.टी.आर. भोपाल के मंच से काव्य पाठ एवं प्रथम पुरस्कार विजेता. रुचियां: लेखन, चित्रकारी, पाक कला, गीत सुनना. अन्य जानकारी: संस्थाओं से सम्बद्धता- म.प्र. हिंदी लेखिका संघ, विश्व हिंदी संगठन कनाडा, कायस्थ युवा मेला, निचले तबके के बच्चों और महिलाओं को व्यक्तिगत रूप से शिक्षित करने का प्रयास. पता: एल.आई.जी, 89, कोटरा सुल्तानाबाद, मे. फ्लॉवर स्कूल के पीछे, भोपाल, म.प्र. -03. ई-मेल: sona.shrivastava69@gmail.com

Facebook

Twitter

Instagram

Whatsapp