Now Reading
देश की पहली ध्रुपद गायिका असगरी बाई

देश की पहली ध्रुपद गायिका असगरी बाई

छाया: आउटलुक इंडिया

प्रेरणा पुंज
अपने क्षेत्र की पहली महिला

देश की पहली ध्रुपद गायिका असगरी बाई

देश की प्रसिद्ध ध्रुपद गायिका असगरी बाई का जन्म बिजावर छतरपुर में 12 अगस्त 1918 को हुआ। छह वर्ष की आयु में वह अपने गुरु के साथ वह टीकमगढ़ आ गईं। बताया जाता है कि टीकमगढ़ महाराज वीरसिंह जूदेव नेअपने दरबार में गोहद निवासी उस्ताद जहूर खां से कहा था, कि उन्हें अपने राज्य में एक अद्वितीय गायिका चाहिए, जिससे दरबार में गायन परंपरा चलती रहे। उस्ताद जहूर खां को असगरी बाई का ख्याल आया। उन्होंने असगरी बाई को गोद लिया और गाना सिखाना शुरू कर किया। असगरी बाई 14-15 साल की उम्र में सारे रागों से परिचित हो चुकी थीं। उनकी माँ नज़ीर बेगम बिजावर के पूर्व शाही परिवार की एक गायिका थी, जबकि उनकी दादी बलायत बीबी अजयगढ़ रियासत के दरबार में गायिका थीं।

 एक बार वीरसिंह जूदेव के दरबार में सिद्धेश्वरी देवी अपना गायन प्रस्तुत कर रही थीं, उसी समय असगरी बाई उछल-उछल कर उन्हें देखना चाह रही थी।  वीरसिंह जूदेव का ध्यान जब असगरी बाई की हरकत पर गया, तो उन्होंने उसे अपने पास बुलाया और पूछा – किसकी बेटी हो? असगरी बाई ने उस्ताद जहूर खां की ओर इशारा करते हुए जवाब दिया कि मैं इनकी बेटी हूं।  राजा को  असगरी के गायन  विद्या के बारे में और जाना था, सो उन्होंने पूछा कि यह क्या गा रही हैं? असगरी बाई ने जवाब दिया, यह तोड़ी गा रही हैं। किस राग में? भैरवी में।, राजा ने कहा क्या तुम गा सकती हो? असगरी ने तुरंत तोड़ी सुनाई।  उन्होंने धमार और ध्रुपद भी गाया। राजा उनके गायन से इतने प्रभावित हुए कि उन्हें टीकमगढ़ किले के राधा-माधव मंदिर में  नौकरी दे दी। असगरी अपने गुरु उस्ताद जहूर खां के साथ घण्टों रियाज करती थीं, वहीं आगरा के एक कोयला व्यापारी चिमनलाल गुप्ता आया करते थे। दोनों एक-दूसरे के प्रति इतने आकर्षित हुए, कि  35 साल की उम्र में असगरी बाई ने उनसे गंधर्व विवाह कर लिया। असगरी बाई के पांच पुत्र और तीन पुत्रियां हैं।

उस समय ध्रुपद गायन केवल मंदिरों तक ही सीमित था । असगरी बाई ध्रुपद गायन में इतनी विशेषज्ञता हासिल कर ली थी कि  उन्होंने अपनी भारी दमदार आवाज में ध्रुपद गायन को पहले राज दरबार,  फिर सार्वजनिक मंच में पहचान दिलाई। असगरी बाई कुण्डेश्वर में पखावज के सिद्धहस्त ब्रह्चारी महाराज से मिलने जाया करती थीं। वहीं उनकी मुलाकात  गुणसागर सत्यार्थी से हुई। वे असगरी बाई का गाना सुनकर इतने मुग्ध हो गए ,कि भोपाल आकर अलाउद्दीन खां संगीत अकादमी के तत्कालीन सचिव अशोक वाजपेयी से कहकर उनका नाम  कलाकारों की सूची में शामिल करवा दिया। इसके बाद असगरी बाई को ससम्मान संगीत समारोहों में आमंत्रित किया जाने लगा।  असगरी बाई ने तत्कालीन मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह की उपस्थिति में 84 बार ताल बदलकर ऐसा ध्रुपद गाया, कि उनके साथ पखावज पर संगत कर रहे बनारस के स्वामी पागलदास गायन खत्म होते ही मंच पर असगरी बाई के कदमों पर गिर पड़े। उन्होंने कहा, कि ऐसा गवैया आज तक हमने नहीं देखा। उस समय अर्जुन सिंह ने असगरी बाई को पांच हजार रुपए इनाम में दिए थे। उन्हें दिल्ली में हाईग्रेड गायक कलाकार का दर्जा भी मिली। उन्होंने सुर श्रृंगार मुबंई, संगीत-नाटक अकादमी दिल्ली, फैजाबाद, वृन्दावन, जयपुर, नांदेड, हैदराबाद, भुवनेश्वर के साथ ही देश के कई शहरों में प्रस्तुतियां दीं। उनकी प्रतिभा  के सभी कायल थे। वे  टीकमगढ़  राज दरबार में  35 साल तक रहीं । असगरी बाई मेवाती घराने से संबंध रखती थीं।

ओरछा राजवंश के मुख्य गायक के रूप में असगरी बाई ने ध्रुपद गायन में असाधारण विशेषज्ञता हासिल कर ली थी। असगरी बाई को कई शाही परिवारों द्वारा आमंत्रित किया जाने लगा था।

उनकी प्रतिभा सिर्फ ध्रुपद गायिका के रूप में ही नहीं, बल्कि उपशास्त्रीय गायन में भी थीं। ऐसी अद्वितीय गायिका को अपने जीवन के कठिन दिनों में बीड़ी और अचार भी बनाकर बेचना पड़ा। मध्यप्रदेश सरकार ने टीकमगढ़ जिले में ध्रुपद केंद्र स्थापित कर उन्हें गुरु के रूप में नियुक्त किया। उन्हें शासन की ओर से छह हजार रुपए मासिक वेतन मिलता रहा। लेकिन उन्हें यह केवल तीन साल तक ही मिला। इसके बाद उन्हें पांच सौ रुपए प्रतिमाह पेंशन ही मिलती रही।

 गरीबी से तंग आकर एक बार असगरी बाई ने अपने सारे पुरस्कार शासन को लौटाने की पेशकश भी कर दी थी। तब उस्ताद अमजद अली खान ने उन्हें अपने पिता उस्ताद हाफिज अली खान साहब के नाम पर एक लाख, 10 हजार रुपए सहायता राशि दी थी। इस राशि से उन्होंने अपने दोनों पोतियों की शादी की। लम्बी बीमारी के बाद 9 अगस्त, 2006 को असगरी बाई का निधन हो गया । वे 1935 से 2005 तक सक्रिय रहीं।  उनकी असाधारण प्रतिभा को देखते हुए भारत सरकार ने सन् 1990 में उन्हें पद्मश्री अलंकरण प्रदान किया। इसके अलावा उन्हें तानसेन सम्मान, संगीत नाटक अकादमी सम्मान और मध्यप्रदेश सरकार का शिखर सम्मान से भी नवाजा गया। उन्हें नारी शक्ति सम्मान भी मिला।  इसके अलावा देश के अनेक मंचों पर वे समय-समय पर सम्मानित हुईं। आईटीसी संगीत रिसर्च अकादमी से उनका नाता 1997 तक बना रहा तथा आईटीसी संगीत सम्मेलन में उन्हें आईटीसी अवार्ड से भी नवाजा गया था।

उपलब्धियां

  1.       पद्मश्री अलंकरण – 24 मार्च 1990
  2.       संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार – फरवरी 1987
  3.       मध्यप्रदेश सरकार का तानसेन सम्मान – दिसम्बर 1985
  4.       मध्यप्रदेश सरकार द्वारा शिखर सम्मान – फरवरी 1986
  5.       नारी शक्ति सम्मान
  6.       आईटीसी संगीत अवार्ड  – 1997

संदर्भ स्रोत – मध्यप्रदेश महिला संदर्भ 

 

और पढ़ें

 

प्रेरणा पुंज

View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Website Designed by Vision Information Technology M-989353242

Scroll To Top
error: Content is protected !!