दीपा श्रीवास्तव

जन्म: 11 अगस्त, स्थान: हरदा. माता: स्व. श्रीमती कमलेश सक्सेना, पिता: स्व. श्री कृष्ण स्वरूप सक्सेना. जीवन साथी: श्री शैलेंद्र श्रीवास्तव. संतान: पुत्र -01, पुत्री -01. शिक्षा: बीएफए (कमर्शियल डिजाइनिंग), एम.ए. (मनोविज्ञान), पी.जी. डिप्लोमा इन गाइडेंस एंड काउंसलिंग, हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत में विधिवत शिक्षा. व्यवसाय: मोटिवेशनल स्पीकर, प्रोग्राम डायरेक्टर-मंजिलें, मनोवैज्ञानिक सलाहकार, गायिका. करियर यात्रा: वर्ष 1995 से पढ़ाई के दौरान ही प्रिंट मीडिया में डिजाइनिंग कार्य के साथ करियर की शुरुआत. साथ–ही ‘इत्यादि’ ग्राफिक नाम से जबलपुर में एक डिजाइनिंग एजेंसी प्रारम्भ की. शादी के बाद वर्ष 2002 में पति के साथ मिलकर भोपाल में ‘मंजिलें’ नाम से इंस्टीट्यूट की स्थापना की तथा अनेक मोटिवेशनल कार्यक्रम करना प्रारंभ किया. वर्तमान में मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में कार्यरत तथा ‘एडवे डिजाइनिंग एजेंसी’ के कार्यों में भी सहयोग. गायकी के क्षेत्र में पिछले 6 वर्षो से लगातार कार्यक्रमों (विशेष तौर पर बुंदेली गीतों की प्रस्तुति, गजल गायकी और फिल्मी गाने) की प्रस्तुतियां जारी. ज्वेलरी डिजाइनिंग के कार्य में भी संलग्न. उपलब्धियां/सम्मान: सीसीआरटी द्वारा सीनियर फेलोशिप अवार्ड, पिछले 6 वर्षों से आकाशवाणी भोपाल के कार्यक्रम सृष्टि रूपा, मुस्कान एवं स्वास्थ्य दर्पण की कंपेयरिंग. भोजपुर मंदिर परिसर में बने इंटरप्रिटेशन सेंटर की डिजाइनिंग सहित भारत के अनेक इंटरप्रिटेशन सेंटर में इनकी पेंटिंग्स का संग्रह. भोपाल की ऐतिहासिक इमारत सदर मंजिल की बारादरी के जीर्णोद्धार में आर्ट वर्क. रुचियां: गाना, ग़ज़ल की धुन बनाना, लघु कथाएं एवं संस्मरण लिखना, कुकिंग. अन्य जानकारी: उस्ताद सलीम अल्लाहवाले जी भोपाल से ग़ज़ल गायकी की शिक्षा प्राप्त की. भोपाल के अलावा देश के सभी राज्यों में ट्रेनिंग प्रोग्राम का आयोजन. अब तक 500 से अधिक मोटिवेशनल कार्यक्रम कर चुकी हैं.  मनोवैज्ञानिक सलाहकार के रूप में अनेक लोगों की काउंसलिंग करते हुए अब तक 200 से अधिक दंपत्तियों का घर फिर से बसाने में मदद की. पति पत्नी के रिश्ते मजबूत करने के उद्देश्य से मोटिवेशनल म्यूजिकल कार्यक्रमों का आयोजन. अवसादग्रस्त अनेक लोगों को अवसाद से बाहर निकलने में मदद करना, विशेष तौर पर ऐसे अकेले रहने वाले बुजुर्गों के घर जाकर उनकी परेशानियों को समझना और उन्हें दूर करने में उनकी मदद करना. कोरोना काल में काटजू हॉस्पिटल में मनोवैज्ञानिक सलाहकार का दायित्व संभाला. ज्वेलरी डिजाइनिंग के कार्य में संलग्न रहते हुए 7 लड़कियों को रोजगार उपलब्ध करवाया. अर्पिता नामक एनजीओ में सचिव के रूप में अध्यक्ष साधना भदौरिया के साथ पिछले 7 वर्षों से अनेक सांस्कृतिक, सामाजिक कार्यों का आयोजन. 3 मई 2022 से इसी संस्था के माध्यम से ‘सारथी वृद्ध सेवा’ आश्रम भी शुरू किया. पता: 113, सागर प्रीमियम टावर्स फेस 2, जेके हॉस्पिटल के पास, कोलार, भोपाल. ई-मेल: manzilean@yahoo.com. वेब: www.manzilean.com

Facebook

Twitter

Instagram

Whatsapp