डॉ. स्वाति तिवारी

जन्म: 17 फरवरी, स्थान: धार. माता: श्रीमती पुष्पावती व्यास, पिता: स्व. श्री दीनानाथ व्यास. जीवन साथी: श्री सुरेश तिवारी. संतान: पुत्र -01, पुत्री -02. शिक्षा: एम.एस.सी. (प्राणिकी), एल.एल.बी., एम.फिल., पी.एचडी. व्यवसाय: सहायक नियोजन अधिकारी. करियर यात्रा: साहित्यकार, रचनाकर्म मध्यप्रदेश और देश की प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में लेख, कहानी, व्यंग्य, समीक्षा, रिपोर्ताज, यात्रा संस्मरण, कविताओं आदि का नियमित प्रकाशन. आकाशवाणी, दूरदर्शन और निजी टी.वी. चैनलों पर रचनाओ का प्रसारण. पटकथा लेखन, फिल्म निर्माण- इन्दौर स्थित परिवार परामर्श केन्द्रों पर आधारित लघु फिल्म घरौंदा न टूटे(निर्माण, संपादन, पटकथा लेखन और स्वर), विशेष: मध्यप्रदेश की कलाजगत हस्ती कलागुरु चिंचालकर पर निर्मित फिल्म की पटकथा-लेखन, संपादन और सूत्रधार स्वर. इंदौर के निजी चैनल के लिए “समय के हस्ताक्षर” श्रृंखला के तहत 16 हस्तियों के साक्षात्कार. शोधकार्य -1. “महिलाओं पर पारिवारिक अत्याचार एवं परामर्श केन्द्रों की भूमिका” 2. “प्राथमिक शिक्षा के लोकव्यापीकरण में राजीव गांधी शिक्षा मिशन की भूमिका”, 3. “अकेले होते लोग”- वृद्धावस्था पर मनोवैज्ञानिक दस्तावेज, 4. “सवाल आज भी जिन्दा हैं” भोपाल गैस त्रासदी एवं महिलाओं की सामाजिक समस्याएं. 5. महुआ एक जनजातीय लोक वृक्ष(महुआ वृक्ष पर शोधपूर्ण लेखन). उपलब्धियां/पुरस्कार: देश की प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में कहानी, लेख, कविता, व्यंग्य रिपोर्ताज व आलोचना का प्रकाशन, विविध विधाओं की लगभग 25 पुस्तकें प्रकाशित, बैंगनी फूलों वाला पेड़, अकेले होते लोग व स्वाति तिवारी की चुनिंदा कहानियांविशेष रूप से उल्लेखनीय. उपन्यास – ब्रह्मकमल एक प्रेमकथा वर्ष 2015 में ज्ञानपीठ पाठक सर्वे में श्रेष्ठ उपन्यास की श्रेणी में नामांकित. पुरस्कार: भारत की 100 विमन अचीवर्स में चयनित होकर राष्ट्रपति श्री प्रणव मुखर्जी द्वारा सम्मानित, अंग्रेजी पत्रिका संडे इंडियन द्वारा 21वीं सदी की 111 लेखिकाओं में शामिल, मप्र साहित्य अकादमी द्वारा अ.भा. गजानन माधव मुक्तिबोध सम्मान (2014), मप्र साहित्य अकादमी द्वारा सुभद्रा कुमारी चौहान प्रादेशिक पुरस्कार (2013), मप्र हिन्दी साहित्य सम्मेलन द्वारा वागीश्वरी सम्मान (2010), राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग द्वारा राष्ट्रीय पुरस्कार (2008), मप्र दलित साहित्य अकादमी द्वारा सावित्रीबाई फुले सम्मान, राष्ट्र भाषा प्रचार समिति हिंदी भवन का प्रकाश कुमारी हकावत सम्मान, “सवाल आज भी जिन्दा है”, भोपाल गैस त्रासदी पर केन्द्रित पुस्तक पर 1. लाड़ली मीडिया सम्मान,  2. जनार्दन अम्बाप्रसाद द्विवेदी पत्रकारिता सम्मान, 3. मप्र राष्ट्रभाषा प्रचार समिति का वांग्मय सम्मान. पाथेय साहित्य कला अकादमी जबलपुर द्वारा समग्र लेखन पर पंचम गायत्री देवी तिवारी सम्मान (2019) सहित अनेकों सम्मानों एवं पुरस्कारों से अलंकृत. विदेश यात्रा: यूएसए सहित अनेक देशों की साहित्यिक/सांस्कृतिक यात्राएं. रुचियां: बागवानी, फोटोग्राफी, बर्ड वॉचिंग, स्टोरी टेलिंग, यात्राएं. अन्य जानकारी: विश्व साहित्य पर केन्द्रित सुनो कहानी पॉडकास्ट चर्चित, अनेक पुस्तकों एवं पत्रिकाओं का संपादन, इंदौर लेखिका संघ की संस्थापक अध्यक्ष, दिल्ली लेखिका संघ की सचिव रहीं, विभिन्न रचनाएं अंग्रेजी सहित कई भाषाओं में अनुदित, 7 वि.वि. में इनके रचना कर्म पर पीएचडी और एम.फिल.  की उपाधि प्रदान की गयी. अनेक वि.वि. में कहानियों पर शोध कार्य जारी, साहित्यिक त्रैमासिक पत्रिका दूसरी परम्परा(कार्यकारी सम्पादक) तथा मीडियावाला (साहित्यिक संपादक) संपादन में सक्रिय सहयोग. पता: 1/9, चार इमली भोपाल -16. ई-मेल: stswatitiwari@gmail.com. वेब: mediawala.in

Facebook

Twitter

Instagram

Whatsapp