डॉ. सीमा शाहजी

जन्म: 7 अक्टूबर, स्थान: थादला, म.प्र., माता: श्रीमती कोमल शाहजी, पिता: श्री राजमल जी शाहजी. शिक्षा: बी.ए., एम.ए. (अंग्रेजी/हिन्दी) पी.एच.डी. हिन्दी (विषय- भारती के काव्य में मिथक एवं पुराख्यान) सभी डिग्रियां विक्रम वि.वि. उज्जैन.  व्यवसाय: शिक्षण. करियर यात्रा: शासकीय महाविद्यालय बड़नगर जिला उज्जैन (2001-2002), शासकीय महाविद्यालय, सरदारपुर, जिला धार (2004-2005),  शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय झाबुआ (2005-2006), शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय मंदसौर (2007- 2008), शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय मंदसौर एवं नलखेड़ा (2008-2009),  शासकीय महाविद्यालय खाचरोद जिला उज्जैन (2009-2010), शासकीय महाविद्यालय महिदपुर जिला उज्जैन (2010-2012), शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय नीमच (2012-2013), शासकीय महाविद्यालय खाचरोद जिला उज्जैन (2013-2014), शासकीय कन्या महाविद्यालय रतलाम (2014-2015), शासकीय महाविद्यालय मेघनगर जिला झाबुआ 2015 से 2021), आकाशवाणी इन्दौर केन्द्र से लोक गीत समन्वयक (2018 से 2019), वर्तमान में फालन आउट अतिथि विद्वान शासकीय महाविद्यालय मेघनगर जिला झाबुआ में पदस्थ. उपलब्धियां पुरस्कार/ प्रकाशन – ‘बचत जीवन का आधार’ पुस्तक प्रकाशित. ऑल इंडिया बज़्में सईद द्वारा शाने अदब सम्मान (2008), राज्य संसाधन केन्द्र, भोपाल द्वारा साक्षर मित्र सम्मान (2012), समग्र लेखन व साहित्य धर्मिता के लिए पूर्वोत्तर हिन्दी अकादमी शिलांग द्वारा डॉ. महाराज कृष्ण जैन स्मृति सम्मान (2013), विक्रमशिला हिन्दी विद्यापीठ गांधी नगर इशीपुर बिहार द्वारा विद्या सागर मानद सम्मानोपाधि (2013),, राष्ट्रीय साहित्य कला और संस्कृति परिषद, हल्दीघाटी-राजस्थान द्वारा शिक्षा भूषण राष्ट्रीय सम्मान (2013),, अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर नई दुनिया में प्रकाशित संदेशों पर दो बार प्रथम पुरस्कार,  नई दुनिया समाचार पत्र द्वारा नवोदित लेखिका सम्मान (2017), महिला प्रकाशन साहित्यकार संघ दुर्ग द्वारा साहित्य सेवा सम्मान (2017), साहित्य में विशिष्ट योगदान के लिए अभिव्यक्ति विचार मंच नागदा द्वारा राष्ट्रीय विष्णु जोशी अंशु सम्मान,   आजाद साहित्य परिषद जिला झाबुआ द्वारा साहित्य सृजन सम्मान, पाथेय साहित्य कला अकादमी दिल्ली द्वारा अंतर्राष्ट्रीय भाषा एवं साहित्य सम्मान (2019), अवनि सृजन साहित्य कला मंच इंदौर द्वारा लोकसाहित्य रत्न सम्मान (2021), उषाराजे अकादमी झाबुआ से साहित्य धर्मिता हेतु सम्मान 2021, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर की अनेक पत्र-पत्रिकाओं में विगत 20 वर्षों से रचनाओं का सतत प्रकाशन,  आकाशवाणी के इंदौर केन्द्र से कहानियां कविताएं एवम वार्ताओं का प्रसारण, भारत सरकार संस्कृति मंत्रालय द्वारा सीनियर फैलोशिप वर्ष 2016-17 हेतु चयन (21वीं सदी और आदिवासी महिलाओं के विकास की ओर बढ़ते कदम (झाबुआ जिले के विशेष संदर्भ में). रुचियां: साहित्य लेखन , साहित्यिक पुस्तकें पढ़ना, पर्यटन, कुकिंग, पेंटिंग, बागवानी. अन्य जानकारी: विद्यालय एवं महाविद्यालय स्तर पर मेरिट आधार पर छात्रसंघ अध्यक्ष मनोनीत, जिला वन्या रेडियो केन्द्र पर कार्यक्रम प्रस्तुति, आदिवासी संस्कृति एवं इस संस्कृति में महिलाओं की स्थिति पर व्यापक अध्ययन, लोक गीतों एवं लोक कथाओं पर विशेष शोध, आईएसएसएन मानक पत्रिकाओं में शोध पत्रों का प्रकाशन, अंतरराष्ट्रीय  सेमिनार/संगोष्ठियों में भागीदारी एवं शोध पत्र प्रस्तुत. राज्य संसाधन केन्द्र इंदौर एवं भोपाल की नवसाक्षर लेखन कार्यशालाओं में प्रतिभागिता. विधिक सहायता शिविर में सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में कार्य किया.  विभिन्न संस्थाओं में सांस्कृतिक एवं सामाजिक स्तर पर निर्णायक एवं अतिथि वक्ता की रूप में उपस्थित. स्वच्छ भारत मिशन में सुदूर आदिवासी क्षेत्र बांसवाड़ा (राजस्थान) में भागीदारी. दसवें विश्व हिंदी सम्मेलन भोपाल में 10-12 सितंबर 2015 को शिक्षाविद के रूप में सहभागिता. महिला दिवस पर कलेक्टर द्वारा सम्मानित 8 मार्च 2021, नगर विकास समिति में संयोजन के रूप में पर्यावरण सुरक्षा, कागज थैली प्रशिक्षण, स्वास्थ्य शिविर आयोजन एवं जनजागृति के प्रयास. साहित्य संस्थाओं से सम्बद्धता- ऑल इंडिया पोयट़स कान्फ्रेंस खुर्जा उ.प्र., इंदौर लेखिका संघ इंदौर म.प्र., अखिल भारतीय साहित्य परिषद, इंदौर, आजाद साहित्य परिषद झाबुआ (सलाहकार),, शब्द धरा वनांचल झाबुआ (संगठन सचिव), नगर विकास समिति थांदला (अध्यक्ष),  अंतरराष्ट्रीय हिंदी वेब पत्रिका ‘काव्यपथ’ (मनोनीत सह संपादक), हिन्दी मासिक पत्रिका ‘ध्रुव निश्चय वार्ता’ रुड़की हरिद्वार की संपादक मंडल सदस्य, म.प्र. साहित्य अकादमी द्वारा साहित्य गतिविधियों हेतु जिला संयोजक नियुक्त. पता: 325/महात्मा गांधी मार्ग, थांदला जिला झाबुआ-77. ई-मेल: seemashahji07@gmail.com

Facebook

Twitter

Instagram

Whatsapp