डॉ. साधना गंगराड़े

जन्म: 30 अक्टूबर, स्थान: इन्दौर. माता: श्रीमती शीला देवी, पिता: श्री माणकचंद. जीवन साथी: सुनील गंगराड़े. सन्तान: पुत्र -02. शिक्षा: पीएचडी (बाल मनोविज्ञान), एम.एस.सी., एम.ए., (स्वर्णपदक  प्राप्त). व्यवसाय: संपादक. करियर यात्रा: दूरदर्शन- न्यूज रीडर 1993 से 2000 तक, आकाशवाणी में कार्यक्रम प्रस्तुतकर्ता, संपादन –पंचकलश (सामाजिक पत्रिका), संयुक्त संपादक – (कृषक जगत) और के.जे. एजुकेशन सोसायटी-भोपाल में प्रोजेक्ट हेड का दायित्व संभाल रही हैं. हिन्दी के प्रति जागरुकता बढ़ाने हेतु समय-समय पर आलेख प्रकाशित. योग शिविर, स्वास्थ्य शिविर, कैंसर  जागरूकता शिविर, वृक्षारोपण, कचरा प्रबंधन शिविर, पॉलीथिन मुक्त शहर, नशा मुक्ति एवं मध्य प्रदेश की विशिष्ट महिलाओं का सम्मान एवं अन्य गतिविधियों में सक्रिय. उपलब्धियां/पुरस्कार:  भोपाल में महाराष्ट्र मंडल एवं आर्य सोसायटी (गौतम नगर एवं अरेरा कालोनी) में योग केन्द्र का  संचालन. अध्यक्ष- परोपकारिणी महिला मंडल भोपाल, मंत्री- अ.भा. पोरवाल महासंघ-दिल्ली, अध्यक्ष- अ.भा. गंगराड़े समाज (पद्मावती पोरवाल), प्रकाशन प्रमुख- हिन्दी लेखिका संघ, म.प्र. भोपाल. गुलाब एवं मशरूम पर पुस्तक लेखन के साथ कृषि एवं बागवानी विषय पर केन्द्रित अनेक  पुस्तकों का  संपादन,  गुलाब पुस्तक बुक्स-ओ-मध्यप्रदेश2013 में शामिल. कृषि विषय पर आडियो-वीडियो, सी.डी., यू ट्यूब वीडियो निर्माण. सम्मान एवं अवार्ड: पुस्तक लेखन एवं कृषि क्षेत्र में विशेष योगदान हेतु वाय.एस. परमार यूनिवर्सिटी ऑफ हार्टिकल्चर एंड फारेस्ट्री, हिमाचल प्रदेश, सोलन द्वारा “एचिवर अवार्ड” (2010), पुरवाल वैश्य समाज संस्था नई दिल्ली द्वारा- सम्मान पत्र– “समाज की बहुमुखी प्रतिभा” (2010), कृषि विस्तार के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए इंडियन फार्म जर्नलिस्ट एसोसियेशन, नई दिल्ली द्वारा प्रदत्त- कस्तूरबा गांधी अवार्ड (2011)पोरवाल वैश्य समाज उ.प्र. द्वारा- पोरवाल रत्न से सम्मानित “प्रतिभा सम्मान (2007), उत्कृष्ट पत्रकारिता के  लिए पब्लिक रिलेशन सोसायटी ऑफ इंडिया द्वारा “अचला सम्मान” (8 मार्च 2020). विदेश यात्रा: फ्रांस, स्विटजरलैंड, इटली, जर्मनी, ऑस्ट्रिया, वेटिकनसिटी, यूनाइटेड किंगडम, स्कॉटलैंड, यूएई, मलेशिया, श्रीलंका, सिंगापुर. रुचियां: किताबें पढ़ना, आलेख, कविता लिखना, पेंटिंग, बागवानी. अन्य जानकारी: डॉ. साधना गंगराड़े के संपादन में पंचकलश सामाजिक पत्रिका का सतत प्रकाशन हो रहा है. पंचकलश के सम्पादकीय आलेखों द्वारा विगत 30 वर्षों से निरंतर सामाजिक चेतना के मुद्दों पर विमर्श तथा समाज में फैली पारंपरिक कुरीतियों (दहेज प्रथा, मृत्युभोज, शादी ब्याह में अनावश्यक   खर्च पर रोक इत्यादि) के उन्मूलन के लिये अभियान चलाया जा रहा है. खेती के काम में महिलाओं की भागीदारी को सम्मानजनक स्थान एवं मान्यता देने के लिये प्रयासरत. महिला लेखकों को प्रोत्साहित किया ताकि अन्य महिलाओं में जागृति, उत्साह एवं एकीकरण से पारिवारिक  एवं सामाजिक उन्नति हो. समाज में महिलाओं के स्वास्थ्य, शिक्षा एवं रोजगार में मदद की दिशा में सक्रिय. सामाजिक पत्रिका, संस्था, एनजीओ के माध्यम से महिलाओं में जागरुकता, आत्म विश्वास लाना मुख्य उद्देश्य है. के.जे. एजुकेशन सोसायटी द्वारा अब तक 12 हजार से ज्यादा महिलाएं लाभान्वित हुई हैं. स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता हेतु कैंसर अवेयरनेस कैंप तथा स्तन कैंसर निवारण हेतु संगोष्ठी एवं कार्यशाला शिविरों का आयोजन, 2001 से 04 तक पोलियो शिविरों का  आयोजन. पता: 323रचना नगरभोपाल-23. ई-मेल: drsadhanagangrade@gmail.com

Facebook

Twitter

Instagram

Whatsapp