डॉ. ललिता शर्मा ‘अनंत’

जन्म: 17 जून, स्थानः पाक्योंग (सिक्किम). माता: श्रीमती उमा शर्मा, पिता: श्री दिल्ली राम शर्मा. जीवन साथी: श्री हातिम अनंत. संतान: पुत्र -02. शिक्षा: पीएचडी, एम.फिल., बी.एड, एम.ए., (राजनीतिक शास्त्र), एम.ए. (लोक प्रशासन), एम.ए. (मनोविज्ञान). व्यवसाय: शिक्षाविद एवं समाजसेवी/निर्देशिका- आभा कुंज वेलफेयर सोसायटी (ओपन स्कॉय क्लासेस). करियर यात्राः हाई स्कूल की शिक्षा सेंट ज़ेवियर हाई स्कूल पाक्योंग (सिक्किम) से प्राप्त की. ग्रेजुएशन सिक्किम गवर्नमेंट कॉलेज, गंगटोक सिक्किम से किया. पंजाब वि.वि. चंडीगढ़ से वर्ष 1999 में राजनीतिक शास्त्र विषय से एम.ए., देवी अहिल्या वि.वि इंदौर से वर्ष 2006 में बी.एड, 2007 में एम.फिल. तथा वर्ष 2009 में लोक प्रशासन विषय में एम.ए. किया. वर्ष 2013 में देवी अहिल्या वि.वि इंदौर से ‘बहाई एडमिनिस्ट्रेशन इन द न्यू वर्ल्ड ऑर्डर’ विषय में पीएचडी की उपाधि प्राप्त की. इसके बाद मनोविज्ञान विषय में एम.ए. किया. जून 2000 से फरवरी 2002 तक इंदौर पब्लिक स्कूल में शिक्षिका, मार्च 2002 से जून 2004 तक बहाई सीनियर सेकेंडरी स्कूल, सरमसा, सिक्किम में वाइस प्रिंसिपल, जुलाई 2004 से अक्टूबर 2005 तक न्यू दिगंबर पब्लिक स्कूल इंदौर में शिक्षिका के रूप में कार्य किया. इसके बाद सितंबर 2007 से जून 2009 तक इंदौर इंस्टीट्यूट ऑफ़ लॉ में विजिटिंग फैकल्टी (राजनीतिक शास्त्र एवं लोक प्रशासन), 2010 से 2014 तक सेंट पॉल इंस्टीट्यूट ऑफ़ प्रोफेशनल स्टडीज इंदौर में असिस्टेंट प्रोफेसर (विजिटिंग फैकेल्टी), जुलाई 2011 से अप्रैल 2014 तक देवी अहिल्या विश्वविद्यालय में फैकल्टी (बहाई चेयर फॉर स्टडीज इन डेवलपमेंट), जनवरी 2013 से जुलाई 2015 तक स्कूल ऑफ लॉ,  देवी अहिल्या विश्वविद्यालय इंदौर में विजिटिंग फैकल्टी (लोक प्रशासन एवं राजनीतिक शास्त्र), 2014 से 2018 तक सेंट पॉल इंस्टीट्यूट ऑफ़ प्रोफेशनल स्टडीज इंदौर में असिस्टेंट प्रोफेसर (फुल टाइम फैकेल्टी), वर्तमान में आभा कुंज वेलफेयर सोसायटी इंदौर में निर्देशिका. डॉ. ललिता शर्मा 18 वर्षों तक अलग-अलग महाविद्यालय एवं विश्वविद्यालय में कार्यरत रही. जॉब छोड़ने के बाद डॉ. शर्मा पूरी तरह सामाजिक कार्यों में रत हैं. पिछले 12 वर्षों से आभा कुंज वेलफेयर सोसायटी की (ओपन स्कॉय क्लासेस) निर्देशिका के रूप में बच्चों के समग्र विकास के क्षेत्र में कार्य कर रही हैं. इस संस्था के माध्यम से करीब 600 ऐसे निर्धन बच्चों को हर वर्ष खुले आसमान के नीचे (ओपन स्काई क्लासेस) शिक्षा दी जाती है, जो किसी कारणवश या तो स्कूल नहीं जा पाते या जिन्होंने अपनी पढ़ाई अधूरी छोड़ दी है.  बच्चों को समुचित शिक्षा के साथ ही नैतिक शिक्षा भी प्रदान की जाती है. विकास कौशल का प्रशिक्षण भी दिया जाता है, ताकि उन्हें शिक्षा के बाद रोजगार के बेहतर अवसर प्राप्त हो सकें. कई निर्धन बच्चे आई.आई.टी., डॉक्टर, लॉ आदि क्षेत्र में पढ़ाई कर रहे हैं. शिक्षा प्राप्त करने के बाद अनेक बच्चे आज उच्च पदों पर कार्य कर रहे हैं. उपलब्धियां/पुरस्कार: भारत सरकार महिला एवं बाल विकास नई दिल्ली द्वारा बाल कल्याण हेतु उत्कृष्ट कार्य करने के लिए भारत की 100 प्रभावशाली महिलाओं में शामिल तथा राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित (2016), बाल कल्याण हेतु जी. टीवी मध्यप्रदेश द्वारा विमेन अचीवर अवार्ड (2016), बच्चों के लिए निस्वार्थ शिक्षा के लिए न्यूयार्क में ग्लोबल विमेन अवार्ड (2018), गैलवे फाउंडेशन इंडिया द्वारा डिजिटल शिक्षा को प्रोत्साहित करने हेतु विशेष डिजिटल शिक्षा अवार्ड (2016), एडवांस्ड अकादमी इंदौर द्वारा निर्धन बच्चों की शिक्षा को प्रोत्साहित करने के लिए देवार्थ अवार्ड (2000), आनंद मोहन माथुर चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा निर्धन और जरूरतमंद बच्चों को शिक्षा और पुनर्वास के कार्य करने हेतु विशेष रूप से सम्मानित (2019), यूनिवर्सल सॉलिडेरिटी मूवमेंट इंदौर द्वारा महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए आउटस्टैंडिंग कंट्रीब्यूशन फॉर विमेन एंपावरमेंट अवार्ड (2020). रुचियां: शिक्षा, शोध, समाज सेवा, संगीत. अन्य जानकारी: बाल कल्याण के क्षेत्र में कार्य हेतु जी टी.वी. के सुभाष चन्द्र शो में ‘जीवन के उद्देश्य’ विषय पर वक्तव्य देने हेतु आमंत्रित किया गया, स्पीकर जोश टॉक्स इंदौर 2017 में आमंत्रण. पता: 281, स्कीम नम्बर 113, ब्रिलिएंट कन्वेंशन सेंटर के पास, विजय नगर, इंदौर -10. ई-मेल: lalitaanant@gmail.com. वेब: http://abhakunj.in/

Facebook

Twitter

Instagram

Whatsapp