डॉ. मीनू पांडेय नयन

जन्म: 19 फरवरी, स्थान: ललितपुर. माता: श्रीमती विद्या देवी मिश्रा, पिता: श्री रमेश चंद्र मिश्रा. जीवन साथी: डॉ. प्रभात पांडेय. संतान: पुत्र -01, पुत्री -01. शिक्षा: पीएचडी (तीन विषयों में – शिक्षा शास्त्र, पुस्तकालय विज्ञान और अंग्रेजी साहित्य), पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन इंग्लिश लैंग्वेज टीचिंग, पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन योगिक साइंस, पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन कंप्यूटर एप्लिकेशन, बीएससी (बायोलॉजी), पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन हायर एजुकेशन. व्यवसाय: अध्यापन. करियर यात्रा: विगत 27 वर्षों से अध्यापन के क्षेत्र में सक्रिय. पूर्व प्रोफेसर एंड हैड- कम्युनिकेशन स्किल्स (लक्ष्मी नारायण कॉलेज ऑफ़ टेक्नोलॉजी, भोपाल), वर्तमान में श्री सत्य साईं महिला महाविद्यालय, भोपाल में व्याख्याता. उपलब्धियां/पुरस्कार: प्रकाशन- अंग्रेज़ी शिक्षण, शोध एवं पुस्तकालय विज्ञान से संबंधित 20 पुस्तकें प्रकाशित. हिन्दी कविताओं की तीन पुस्तकें – (थोड़ा सा रूमानी हुआ जाए- 2017, हलचल – 2018,  आयाम जिंदगी के -2019 ), एक बुंदेली पुस्तक (बुंदेली बतरस -2020)  तथा 34 साझा संग्रह प्रकाशित. पाठ्य पुस्तक निगम, राज्य शिक्षा केंद्र, भोपाल से 6 पुस्तकें (माध्यमिक शिक्षा मंडल के कक्षा आठवीं, नवमी एवं दसवीं की अंग्रेजी (English) की पाठ्य पुस्तकें एवं अभ्यास पुस्तकें) प्रकाशित. विभिन्न राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय जनर्लस में 64 शोध पत्र प्रकाशित. आइजे एलआईएस जर्नल की प्रधान संपादिका, दैनिक लोकजंग पेपर की समाचार संपादिका, लोकजंग के साहित्यिक (बुंदेली में) पृष्ठ मीठी निमौरी की संपादिका, समाचार पत्र गोल टाइम्स के साहित्यिक पृष्ठ ‘साहित्य वारिधि’ की संपादिका, बुंदेली रामायन की संपादिका. सम्मान- सृष्टि (भोपाल ) 2013 द्वारा उत्कृष्ट शिक्षक सम्मान, सोशल रिसर्च फाउंडेशन द्वारा शोध परक सम्मान  2017 (कानपुर ), अंतरा शब्द शक्ति द्वारा अंतरा शब्द शक्ति सम्मान 2018 (इंदौर), साहित्य संगम संस्थान, दिल्ली द्वारा .”वीणा पाणि “सम्मान (मार्च  2018), गहमर वेलफेयर सोसायटी द्वारा, साहित्य सरोज शिखर सम्मान (2018), राष्ट्रीय साहित्य संगम संस्थान, इंदौर द्वारा साहित्य अभ्युदय सम्मान (मई 2018), अखिल भारतीय शौर्य सम्मान  अग्निपथ, नोएडा (2018), श्री विभूगूंज वेलफेयर सोसाइटी, भोपाल द्वारा महादेवी वर्मा सम्मान (अप्रैल 2019), आइबी हब, हैदराबाद, द्वारा इंस्पायरिंग टीचर ऑफ़  द ईयर (2019), साहित्यांचल, राजस्थान द्वारा राष्ट्रीय साहित्यांचल सृजन सम्मान (2019), तुलसी साहित्य अकादमी, भोपाल द्वारा रत्नावली सम्मान (2019), अखिल भारतीय बुंदेली साहित्य एवं संस्कृति परिषद, जबलपुर द्वारा डॉ. पूरनचंद श्रीवास्तव स्मृति बुंदेली वैभव अलंकरण  (2020), मध्य प्रदेश राष्ट्र भाषा प्रचार समिति, हिन्दी भवन, भोपाल द्वारा कृति बुंदेली बतरस के लिए स्व. श्री रामेश्वर प्रसाद नवीन पुरस्कार (2020) सहित शिक्षा, साहित्य एवं समाज सेवा के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए अनेक पुरस्कार/ सम्मान प्राप्त. विदेश यात्रा: बैंकॉक. रुचियां: पठन पाठन, लेखन, बागवानी, योग, मोटिवेशनल स्पीकर, मंच संचालन, समाज सेवा, नारी उत्थान एवं युवाओं की विशेष काउंसिलिंग. अन्य जानकारी: पुस्तक ‘आयाम जिंदगी के ‘ मध्य-प्रदेश की 2020 की 20 चर्चित पुस्तकों में शामिल. राष्ट्रीय स्तर की कांफ्रेंस का आयोजन. संस्थापक एवं अध्यक्ष- आरिणी चैरिटेबल फाउंडेशन (सामाजिक, सांस्कृतिक, शैक्षणिक एवं साहित्यिक संस्था) इस संस्था द्वारा मई 2020 से अब तक निरंतर 8 सौ से ज़्यादा  फेसबुक लाइव आयोजित हो चुके हैं. समय समय पर अनेकों विषयों पर कार्यक्रम किये जाते हैं जैसे-काव्यपाठ, लघुकथा पाठ, क्षेत्रीय रचनाओं का पाठ, फिल्मी गीतों का कार्यक्रम ‘सुर झंकार’, नृत्यांजलि, प्रेरक प्रसंग, इंटरव्यू, आध्यात्मिकता और विज्ञान.आजीवन सदस्य -हिन्दी भवन एवं दुष्यंत संग्रहालय, मीडिया प्रभारी – हिन्दी लेखिका संघ व प्रभात साहित्य परिषद,  कला मंदिर की सांस्कृतिक प्रभारी एवं अन्य साहित्यिक एवं समाजसेवी संस्थाओं की सक्रिय सदस्य. पता: 39, सुरभि परिसर, अयोध्या बाइपास रोड, देव माता हास्पिटल के पास, भोपाल -41. ई मेलmeenunayan2019@gmail.com

Facebook

Twitter

Instagram

Whatsapp