डॉ. प्रणीता शर्मा

जन्म: 2 नवंबर, स्थान: चंदेरी ( मप्र.). माता: श्रीमती अनुरागिनी शर्मा, पिता: श्री प्रदीप कुमार शर्मा. जीवन साथी: डॉ. सौरभ लाल. संतान:  पुत्र -01, पुत्री -01. शिक्षा: मास्टर ऑफ़ फिजियोथेरेपी (कार्डिओथोरेसिक). व्यवसाय: असिस्टेंट प्रोफेसर/सामाजिक कार्यकर्ता. करियर यात्रा: वर्ष 2010 में मीनाक्षी हॉस्पिटल. गुना से बतौर फिजियोथेरेपिस्ट कार्य की शुरुआत. यहां एक वर्ष कार्य करने के बाद अप्रैल 2011 से वर्ष 2019 तक चोइथराम अस्पताल इंदौर में फिजियोथेरेपिस्ट के रूप में कार्य किया. वर्ष 2020 से वर्तमान में इंडेक्स डिपार्टमेंट ऑफ फिजियोथैरेपी, मालवांचल यूनिवर्सिटी, इंदौर में असिस्टेंट प्रोफेसर तथा विगत चार वर्षों से टीम परिणीता के साथ सामाजिक कार्यों में संलग्न. उपलब्धियां/पुरस्कार: ‘यंग अचीवर्स अवार्ड’-दिल्ली (2018), ‘नारी शक्ति को नमन अवार्ड’ (2019), ‘इंदौर फाउंडेशन ऑफ लिम्फीडिमा एंड ऑन्कोरिहेबिलिटेशन’ से सम्मानित, लायंस क्लब डायनेमिक से सम्मानित, नेशनल हॉस्पिटल, कोलंबो, श्रीलंका से एक माह की फेलोशिप (बर्न रिहैबिलिटेशन) प्राप्त. ‘रोशनी एक उम्मीद की किरण’ नाटक का मित्रों के सहयोग से लेखन तथा अभिनय. इस नाटक को युवा उत्सव में अनेक पुरस्कार प्राप्त. कॉलेज में पढ़ते हुए ऑल इंडिया रेडियो पर विभिन्न विषयों में संवाद. लेख, कविताएं व टीम वर्क द्वारा किये जा रहे कार्य प्रतिष्ठित समाचार पत्रों में प्रकाशित. पूर्व सब को ऑर्डिनेटर-इंडियन एसोसिएशन ऑफ फिजियोथेरेपिस्ट वुमेन सेल, (म.प्र.), वर्तमान में इंडियन एसोसिएशन ऑफ फिजियोथेरेपिस्ट, मध्य प्रदेश की ज्वाइंट सेक्रेटरी. 14 से अधिक सेमिनार व वेबिनार में वक्ता के रूप में आमंत्रित. वर्ष 2018 में सेनेटरी पैड वेंडिंग मशीन का उद्घाटन करने हेतु ओल्ड जीडीसी कॉलेज इंदौर में मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित. विदेश यात्रा: कोलम्बो. रुचियां: बागवानी, नृत्य, गायन, लेखन, समाज में जन जागरूकता के कार्य करना. अन्य जानकारी: चोइथराम अस्पताल में फिजियोथेरेपिस्ट के पद पर कार्यरत रहते हुए महिलाओं के लिए ‘मासिक धर्म स्वच्छता’ के अनछुए पहलुओं पर काम करना शुरू किया. बर्न यूनिट में जली हुई उत्पीड़ित महिलाओं की व्यथा को कविता व लेख के माध्यम से प्रेषित किया. अपनी छोटी बहन, कुछ विद्यार्थियों व मित्रों के साथ मिलकर ‘टीम परिणीता’ नामक एक ग्रुप बनाकर इंदौर की विभिन्न वंचित बस्तियों में प्रत्येक रविवार को डोर-टू-डोर सर्वे के माध्यम से महिलाओं व बच्चियों को ‘मासिक धर्म स्वच्छता’ विषय पर जागरूक करना शुरू किया. बस्तियों व अलग-अलग स्थानों पर नुक्कड़ नाटक के माध्यम से जन साधारण के मन में बसी कुरीतियों को समाप्त करने का प्रयास विगत चार वर्षों से निरंतर जारी. महिलाओं को बहुत ही कम मूल्य में सैनिटरी पैड उपलब्ध करवाने हेतु टीम निरंतर प्रयासरत. विगत दो वर्षों से ये वेबिनार के माध्यम से कई लड़कियों (युवतियों) व महिलाओं को ‘मासिक धर्म कप’ (मेन्स्ट्रुअल कप) के बारे में जागरूक कर रही हैं. कोरोना काल में भी उनका यह कार्य जारी रहा. सोशल मीडिया पर उनके विभिन्न पेज इनके व इनकी टीम के कार्य कौशल को दिखाते हैं. पता: 302, गुलमोहर बिल्डिंग, इंडेक्स मेडिकल कॉलेज, नेमावर रोड, इंदौर. ई-मेल: pranita.s84@gmail.com

Facebook

Twitter

Instagram

Whatsapp