डॉ. अरुणा पाठक

जन्म: 10 जून, स्थान: जबलपुर. माता: श्रीमती कृष्णा देवी शुक्ला, पिता: श्री बी.एम. शुक्ला. संतान पुत्र -01, पुत्री -01. शिक्षा एम.ए (हिन्दी साहित्य-1995), एल.एल.बी. (2001), पी.एच.डी. (रामचरितमानस में रस निरूपण’- अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय 2017), एमएसडब्ल्यू (2018).  व्यवसाय: असिस्टेंट प्रोफेसर/कवयित्री. करियर यात्रा: वर्ष 2013 से कालिका गर्ल्स कॉलेज रीवा से अध्यापन कार्य की शुरुआत. वर्ष 2015 तक यहां कार्य करने के बाद इसी वर्ष से महारानी लक्ष्मीबाई कॉलेज रीवा में असिस्टेंट प्रोफेसर के रूप में पदस्थ. इसी बीच लेखन कार्य भी जारी रहा. लेख, कहानी-कविताएं पत्र-पत्रिकाओं में निरंतर प्रकाशित. उपलब्धियां/सम्मान: ‘साहित्य प्रभा सम्मान’, ‘काव्य गौरव सम्मान’, ‘वर्तिका सम्मान’ सहित अनेक समान प्राप्त. प्रकाशन- साझा संग्रह- ‘कलम के संग कोरोना से जंग’, ‘सुबह जरूर आएगी’. रुचियां: कहानियां/कविताएं लिखना, सामाजिक कार्य में रुचि. पता: पाठक सदन, निपानिया स्कूल के पास, रीवा, म.प्र. -02. ई-मेल: arunapathak72@gmail.com

Facebook

Twitter

Instagram

Whatsapp