डॉ. अमिता नीरव

जन्म: 1 मार्च,  स्थान: उज्जैन. माता: श्रीमती प्रमिला, पिता: श्री विक्रमचन्द्र. जीवन साथी: डॉ. राजेश दीक्षित नीरव. शिक्षा: एम.ए., पी.एच.डी. व्यवसाय: स्वतंत्र लेखन. करियर यात्रा: राजनीति विज्ञान में स्नातकोत्तर तथा “अस्तित्ववादी विचारों” पर 1999 में पीएचडी करने के बाद 2002 में शासकीय महाविद्यालय बागली में अध्यापन कार्य प्रारम्भ, 2003 में एक वर्ष शासकीय महाविद्यालय नेपानगर में सेवाएं दीं, तदुपरांत 2004 में शासकीय महाविद्यालय धामनोद में अध्यापन कार्य किया. इसी वर्ष नई दुनिया इंदौर में उप-संपादक पद पर नियुक्ति, वर्ष 2007 में मध्यप्रदेश पीएससी के तहत सहकारिता निरीक्षक के पद पर चयन, शाजापुर में पोस्टिंग, लेकिन ज्वाइन नहीं किया. पहला लेख 1999 में दैनिक भास्कर में प्रकाशित, 2007 से ब्लॉग लेखन की शुरुआत, 2014 में हंस में पहली कहानी प्रकाशित. हंस, पहल, परिकथा, बया, पाखी, समावर्तन आदि पत्रिकाओं में प्रमुखता से कहानियाँ प्रकाशित. जनसत्ता से ब्लॉग के बतौर नियमित जुड़ाव, नई दुनिया (इंदौर) में फीचर विभाग में कार्यरत, 2020 अप्रैल में स्वतंत्र लेखन हेतु पत्रकारिता से निवृत्ति. उपलब्धियां/पुरस्कार:  2018 में पहला कहानी-संग्रह ‘तुम जो बहती नदी हो’ का प्रकाशन, उपन्यास माधवीशीघ्र प्रकाश्य. वागीश्वरी पुरस्कार 2019, कमलेश्वर स्मृति कथा पुरस्कार 2018, वर्ल्ड डिग्निटी यूनिवर्सिटी का बेकन अवार्ड 2017,  देश-विदेश की प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में प्रकाशन, आकाशवाणी से रचनाओं का प्रसारण. रुचियां: लेखन, पर्यटन, फोटोग्राफी, संगीत एवं पढ़ना. अन्य जानकारी: विश्व रंग के तहत प्रकाशित हिन्दी कथा साहित्य के 150 वर्ष के प्रतिनिधि कहानीकारों की कहानियों के संकलन कथादेशमें शामिल. पता: 27, श्रीविहार, कालोनी आसाराम आश्रम के सामने, खण्डवा रोड, इन्दौर-20. ई-मेल: amita.neerav@gmail.com, neerav.amita@gmail.com

Facebook

Twitter

Instagram

Whatsapp