कामना नायक

जन्म: 10 दिसम्बर, स्थान: जबलपुर. माता: स्व. श्रीमती कृष्णा पाण्डेय, पिता: स्व. आर. डी पाण्डेय. जीवन साथी: श्री शलभ नायक. संतान: पुत्र- 1 पुत्री –1. शिक्षा: बी.ए, एलएलबी, 6 वर्षीय डिप्लोमा- भरतनाट्यम, एम.ए. –भरतनाट्यम (इंदिरा कला संगीत विवि. खैरागढ़ ). व्यवसाय: निर्देशिका एवं प्राचार्य- नृत्यांजली कला अकादमी भरतनाट्यम. करियर यात्रा: वर्ष 2002 से 04 तक छावनी परिषद, जबलपुर के अंतर्गत आने वाले शिक्षण संस्थान में नृत्य शिक्षिका. वर्ष 2012 में नृत्यांजली कला अकादमी भरतनाट्यम की स्थापना की. उपलब्धियां/ सम्मान: NAAC द्वारा ए-ग्रेड मान्यता प्राप्त कलाकार, मध्यप्रदेश युवा नीति चिंतन शिविर, दुर्गावती शरद उत्सव, महिला शक्ति सप्ताह, मध्य प्रदेश राज्य पर्यटन विकास निगम सहित अनेक प्रतिष्ठित मंचों से नृत्य प्रदर्शन. जबलपुर की पहली अखिल भारतीय शास्त्रीय एवं लोक नृत्य प्रतियोगिता रेवा नृत्य संगम महोत्सव का आयोजन. कलाकारों के लिए गुरु शंकर होम्बल अलंकरण सम्मान की शुरुआत की. भारत की पहली बुंदेली फिल्म ‘मोरो बेटा, मोरो लाल’ में नृत्य प्रदर्शन. रंगसिट विश्वविद्यालय, थाईलैंड में नृत्यधाम द्वारा आयोजित महोत्सव में 16 शिष्यों ने उनके द्वारा कोरियोग्राफ किए गए भरतनाट्यम का प्रदर्शन किया. अनेक नृत्य नाटिकाओं (जननी, कृष्ण चरित्रम, सीता स्वयंवर, अर्धनारीश्वर,) तथा मयूर, कालबेलिया, चौधरी, कोलाट्टम जैसे भारतीय लोक नृत्यों का निर्देशन. दिल्ली, लखनऊ, कानपुर, जबलपुर में एकल नृत्य व लोक नृत्य का निर्देशन. पुरस्कार- नृत्य महोत्सव, थाईलैंड में पद्मभूषण से सम्मानित नृत्य गुरु श्रीमती सरोज वैद्यनाथन द्वारा ‘पद्मायनी बुध प्रिया’ सम्मान, मध्यप्रदेश एसोसिएशन फॉर वूमेन इंटरप्राइजेज द्वारा ‘सच्चा गुरु’ (ट्रू गुरु) शीर्षक से सम्मानित, ओंकार अलंकरण सम्मान, नृत्यमणि अलंकरण सम्मान, कला परम्परा सम्मान, नवरस रत्न आचार्य सम्मान सहित अनेक पुरस्कार तथा सम्मान प्राप्त. इंटर स्कूल शास्त्रीय और अंतरराष्ट्रीय लोक नृत्य प्रतियोगिता सहोदय स्कूल, अंतर केंद्रीय विद्यालय शास्त्रीय नृत्य प्रतियोगिता, इंटर इंजीनियरिंग शास्त्रीय नृत्य प्रतियोगिता आर.जी.पी.वी भोपाल, युवा महोत्सव राज्य स्तरीय शास्त्रीय नृत्य प्रतियोगिता (आर.जी.पी.वी), अंतर वैश्विक प्रतियोगिता अलॉयसियस कॉलेज जबलपुर आदि अनेक कार्यक्रमों में निर्णायक के रूप में उपस्थित. अन्य जानकारी: 4 साल की उम्र में गुरु नृत्य शिरोमणि नरसप्पा अल्वा से केरल कलामंडपम शैली में 15 वर्षों तक भरतनाट्यम का कठोर प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद भोपाल में 8 वर्ष तक गुरु भारती होम्बल के निर्देशन में भरतनाट्यम की शिक्षा प्राप्त की. भरतनाट्यम में नाट्यशास्त्र सिद्धांतों का अध्ययन किया. यूट्यूब पर कला सुरभि वार्ता श्रृंखला में साक्षात्कार. इनके द्वारा अब तक सौ से अधिक शिष्यों को भरतनाट्यम में प्रशिक्षित किया जा चुका है. भरतनाट्यम, तबला, हिंदुस्तानी गायन और ललित कला चार विषय में शिक्षण. विदेश यात्रा: थाईलैंड. रुचियां: शिष्यों को नृत्य के क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करना, नृत्य कला की शिक्षा ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक पहुँचना तथा नाट्यशास्त्र का अध्यन करना. पता: 4- भसीन प्लाजा अपार्टमेंट, गोरखपुर जबलपुर, म.प्र. ई मेल: nrityanjali.kala16@gmail.com

Facebook

Twitter

Instagram

Whatsapp