ऋचा जैन

जन्म: 28 जुलाई, स्थान: जबलपुर. माता: श्रीमती सुनीता जैन, पिता: श्री माखन लाल जैन. जीवन साथी: श्री विकास जिंदल. संतान: पुत्री -01. शिक्षा: बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग, अध्ययन- जर्मन भाषा. व्यवसाय: आई.टी. प्रोफेशनल/ स्वतंत्र अध्यापन. करियर यात्रा: जबलपुर के शासकीय अभियांत्रिकी महाविद्यालय से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की डिग्री लेने के पश्चात लगभग 10 वर्षों तक आई. टी. में कार्यरत. इसके बाद मैक्स म्यूलर भवन, पुणे में जर्मन भाषा का अध्ययन, तत्पश्चात 4 वर्ष विक्टोरिअस किड्स एडुकेयर्स आई बी स्कूल में जर्मन भाषा शिक्षिका और क्रिएटिव राइटर एण्ड एड्वाइज़र के तौर पर कार्यरत साथ ही अपने निजी संस्थान में जर्मन के अंतर्राष्ट्रीय सर्टिफ़िकेशन कोर्सेज़ का अध्यापन, वर्ष 2016 में इंग्लैन्ड प्रवास. वर्तमान में अध्यापन (हिंदी) एवं लेखन.  उपलब्धियां/पुरस्कार: प्रकाशन- ‘श्पास मिट एली उंड एज़ी’ (जर्मन भाषा सिखाने के लिए बच्चों की किताब) 2014 गोयल पब्लिशर्स-दिल्ली, ‘जीवन वृत्त, व्यास ऋचाएँ’ (काव्य संग्रह) ज्ञानपीठ द्वारा प्रकाशित (2020). एक विशेष ज़रूरतों वाली बच्चों (special need child) के जीवन पर आधारित उपन्यास शीघ्र प्रकाश्य, हिन्दी के विद्यार्थियों की बातचीत, अनुभवों कहानियों और निबंधों का संपादित संकलन शीघ्र प्रकाश्य. साहित्यिक पत्रिका पहल, अहा ज़िंदगी, बिंदिया आदि पत्रिकाओं तथा वेबसाईट्स में हिंदी एवं अंग्रेज़ी कविताओं का प्रकाशन. ऑस्ट्रिया की द्विभाषीय पत्रिका वर्डस एंड वर्ल्डस के कई अंकों में हिंदी एवं अंग्रेज़ी कविताओं का प्रकाशन, क्रॉयडन सेंट्रल लाइब्रेरी, लंदन की वार्षिक ऐन्थॉलॉजी में तीन वर्षों से कविताएं प्रकाशित, ‘Still We Sing – Voices on Violence Against Women’ दक्षिण एशियाई महिला लेखकों की कविताओं की ऐन्थॉलॉजी में कविताएँ प्रकाशित, चेल्सी एण्ड केनसिंगटन, लंदन आर्ट वीक ट्रेल में कविताएं प्रदर्शित, ‘हिंदी से प्यार है’ अंतर्राष्ट्रीय समूह की ‘साहित्यकार तिथिवार’ वार्षिक परियोजना के तहत नियमित रूप से साहित्यकारों पर शोधपरक लेखन, अब तक रहीम, संत रैदास और विनोद कुमार शुक्ल पर आलेख वेबसाईट में प्रकाशित. सम्मान- भारतीय उच्चायोग, लंदन द्वारा प्रथम काव्य संग्रह ‘जीवन वृत्त, व्यास ऋचाएँ’ सम्मानित. विदेश यात्रा: जर्मनी, ऑस्ट्रिया, इटली. फ़्रांस, ग्रीस, नॉर्दन आयरलैंड, वेल्स, स्कॉटलैंड, सिंगापुर, थाईलैंड, मारिशस, हाँगकाँग, मलेशिया, श्रीलंका. रुचियां: पर्यटन, पढ़ना, लिखना, कविता पाठ करना, यूट्यूब और इंस्टाग्राम की साहित्यिक पोस्ट्स तैयार करना, भारत एवं विश्व इतिहास पर आधारित सीरियल्स और फिल्में देखना, अकेले लम्बी सैर पर जाना. अन्य जानकारी: यू.के. की प्रसिद्ध सांस्कृतिक एवं साहित्यिक संस्था ‘वातायन’ के कार्यक्रमों में सहभागिता. प्रभा खेतान फाउंडेशन के ‘कलम लंदन’ की ओर से गीत चतुर्वेदी का साक्षात्कार. स्थानीय स्पोकन वर्ड एवं अंतर्राष्ट्रीय काव्य गोष्ठियों में नियमित रूप से कविता पाठ. पता: East Finchley, London, UK. ई-मेल: richa287@yahoo.com

Facebook

Twitter

Instagram

Whatsapp